अमेरिका क्रिकेट क्यों नहीं खेलता है असल कारण जानिए

आज के इस पोस्ट में आपको अमेरिका क्रिकेट क्यों नहीं खेलता है इसके बारे में बताने जा रहे हैं। भारत में क्रिकेट काफी लोकप्रिय खेल है या यूँ कहे कि यह भारत में सबसे ज्यादा पसंद किया जाने वाला खेल है। लेकिन बहुत से सुपरपावर देश जैसे अमेरिका, फ्रांस, रूस और चीन में क्रिकेट की बहुत कम लोकप्रियता है। ऐसा नहीं है कि इन देशों में लोग खेल नहीं खेलते है। बल्कि इन देशों में सिर्फ क्रिकेट को छोड़ बाकि खेलों को काफी पसंद किया जाता है। जब भी ओलंपिक जैसे बड़े टूर्नामेंट होते है तो मेडल जीतने वाले देशों में चीन अमेरिका जैसे देशों का नाम टॉप पर होता है।

अमेरिका क्रिकेट क्यों नहीं खेलता है

अमेरिका में बेसबॉल और रेसिंग जैसे गेम्स को खूब पसंद किया जाता है। आपको बता दे कि अमेरिका में कई बार इंटरनेशनल क्रिकेट मैच आयोजित किये जा चुके हैं लेकिन इस देश में क्रिकेट को अभी तक उतनी लोकप्रियता नहीं मिली है जितनी मिलनी चाहिए। एशिया में भारत के अलावा इसके पड़ोसी देश जैसे पाकिस्तान, बांग्लादेश, अफगानिस्तान और श्री लंका में क्रिकेट काफी सालों से फलफूल रहा है।

अमेरिका क्रिकेट क्यों नहीं खेलता है

USA में क्रिकेट के इतिहास की बात करे तो यहाँ के लोग क्रिकेट से मिलता जुलता खेल बेसबॉल को पसंद करते आ रहे है। आपकी जानकारी के लिए बता दे कि अमेरिका में भी ब्रिटिश सामाज्य हुआ करता था इस साम्राज्य से अमेरिका को 1776 ईसवीं में आजादी मिली थी।

वहीं क्रिकेट की शुरुआत 18वी सदी में यूनाइटेड स्टेट से हुई थी। ऐसे में जब USA में ब्रिटिश राज हुआ करता था तब क्रिकेट का कोई अस्तित्व ही नहीं हुआ करता था। आज जितने भी देश क्रिकेट खेलते हैं उनमे कही न कहीं ब्रिटिश राज रहा है।

इसके अलावा जब अमेरिका में क्रिकेट आया तो उसके मिलते जुलते खेल बेसबॉल से भी प्रतिस्पर्धा मिलना शुरू हो गयी थी। यही कारण रहा कि इस देश में क्रिकेट को कभी भी बड़े स्तर पर खेला नहीं गया है। हालाकि कुछ समय के लिए यहाँ के नागरिकों ने इस खेल में दिलचस्पी जरुर दिखाई थी।

ग्रह युद्ध के समय संयुक्त राज्य अमेरिका में क्रिकेट की लोकप्रियता में गिरावट देखने को मिली और बहुत समय तक ऐसा ही चलता रहा और प्रथम विश्व युद्ध में यहाँ क्रिकेट गुमनामी में पहुँच गया था।

कुछ रिपोर्ट की माने तो साल 2007 में ICC ने संयुक्त राज्य अमेरिका क्रिकेट एसोसिएशन को प्रशासन से कुछ समस्याओं की वजह से निलम्बित कर दिया था। हालाकि इसके एक साल बाद 2008 में इसे फिर से पास कर दिया गया था।

संयुक्त राज्य अमेरिका भी ज्यादातर फोकस उन खेलों में कर रहा है जिनको ज्यादातर खेल खेलते है। जैसे ओलंपिक इसमें अमेरिका काफी अच्छा प्रदर्शन कर रहा है। चूँकि क्रिकेट फिलहाल ओलंपिक जैसे बड़े टूर्नामेंट का हिस्सा नहीं है ऐसे में अमेरिका ने बहुत समय तक इस खेल में दिलचस्पी नहीं दिखाई थी।

वर्तमान समय की बात करे तो अब अमेरिका क्रिकेट में आने को उत्सुकता दिखा रहा है। इसके लिए बकायदा उन्होंने अपनी राष्ट्रीय टीम बनाई हुई है। क्रिकेट की कई बड़ी टीम USA में इस खेल को बढ़ावा देने के लिए यहाँ क्रिकेट खेल चुकी है।

तो अब आप जान गए होंगे कि अमेरिका क्रिकेट क्यों नहीं खेलता है इस पोस्ट में आपको कुछ ऐसे कारण बताये है जिससे आपको पता चल गया होगा कि अमेरिका में क्रिकेट के लोकप्रिय न होने की क्या वजह थी। हालाकि अब अमेरिका के नागरिक और क्रिकेट बोर्ड इस खेल में दिलचस्पी दिखा रहे है। इसके लिए WWE के सुपरस्टार जॉन सीना को अमेरिकन क्रिकेट का ब्रांड एम्बेसडर बनाया गया गया है। अब देखना दिलचस्प होगा कि अमेरिका में क्रिकेट को लोकप्रियता कब हासिल होती है।

ये भी पढ़े –

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here