Bank Manager कैसे बने सैलरी योग्यता और प्रक्रिया

चलिए आज जानते हैं Bank Manager कैसे बने इन हिंदी में बैंक मैनेजर बनने के लिए क्या करें इसकी सैलरी योग्यता और प्रक्रिया क्या है जैसा की हम सभी जानते हैं भारत में बैंक की नौकरी को बड़े ओहदे के रूप में देखा जाता है। और अगर नौकरी SBI जैसी Government Bank में मिल जाए तो अभ्यर्थी के लिए सोने में सुहागा जैसी बात हो जाती है। क्योंकि सरकारी बैंक की ब्रांच में नौकरी एक बेहतर कैरियर प्रदान करती है। हालाकि बैंकों में नौकरी पाना थोड़ा मुस्किल काम है लेकिन अगर आप अपना लक्ष्य तय करके उसकी तैयारी शुरू कर देते हैं तो मुस्किल से मुस्किल काम भी आसान हो जाता है।

Bank Manager कैसे बने

वैसे जब भी आप किसी ब्रांच में जाते हैं तो वहां के मैनेजर को देखने के बाद आप भी सोचते होंगे कि किसी भी सरकारी SBI बैंक मैनेजर कैसे बनते है इसकी क्या प्रक्रिया है। लेकिन इससे पहले आपको यह भी जान लेना चाहिए कि Bank Manager बनने के बाद आपको किसी एक शाखा या ब्रांच की सारी जिम्मेदारी सौंप दी जाती है। जिसके बाद शाखा में काम करने वाले सभी कर्मचारी ब्रांच मैनेजर की देखरेख में ही काम करते हैं।

Bank Manager कैसे बने

सबसे पहले तो आपको तय करना होगा कि आपको सरकारी या Private Bank में नौकरी चाहिए। क्योंकि दोनों में बैंक मैनेजर बनने की प्रक्रिया थोड़ी अलग अलग है। अगर आप सरकारी नौकरी प्राप्त करना चाहते हैं तो आपको ज्यादा मेहनत करनी होगी। अगर आप सफल हो जाते हैं तो आपको प्राइवेट की तुलना में ज्यादा सैलरी मिलती है।

1. सरकारी बैंक

अगर आप देश की 20 से भी अधिक सरकारी बैंकों में जॉब पाना चाहते हैं तो आपको इसके लिए IBPS परीक्षा को पास करना होगा। IBPS PO की फुल फॉर्म Institute of Banking Personal Selection होता है। जिसे हिंदी में बैंकिंग कार्मिक चयन संस्थान कहते हैं। इस परीक्षा को पास करने के बाद आप देश की लगभग सभी सरकारी बैंक में जॉब के लिए अप्लाई कर सकते हैं। हालाकि SBI Bank अपने कर्मचारी के चयन के लिए अपनी अलग प्रक्रिया अपनाता है।

2. प्राइवेट बैंक

प्राइवेट बैंकों में नौकरी पाने के लिए आपको PO की परीक्षा पास करनी होगी। PO की फुल फॉर्म Probationary Officer होती है जो मुख्य तौर पर बैंक कर्मचारी के तौर पर कार्य करते हैं। जब भी किसी प्राइवेट Bank को कर्मचारीगण की आवश्यकता होती है तो वह PO परीक्षा की सहायता लेती हैं। इसमें पास होने वाले अभ्यर्थीयों को चयन की अगली प्रक्रिया से गुजरना पड़ता है जिसकी जानकारी नीचे दी गयी है।

Bank Manager बनने की योग्यता

सभी बैंकों में मैनेजर बनने की क्वालिफिकेशन और प्रक्रिया अलग अलग होती हैं जिनकी जानकारी नीचे दी गयी है।

  • अभ्यर्थी का भारतीय नागरिक होना आवश्यक है।
  • वह 18 से 30 वर्ष के अंदर ही बैंक की नौकरी के लिए आवेदन कर सकता है।
  • बैंक में ग्रेजुएट अभ्यर्थी को ही प्राथमिकता दी जाती है।
  • सरकारी Bank में मैनेजर बनने के लिए IBPS एग्जाम को पास करना अनिवार्य है।
  • प्राइवेट में आप PO एग्जाम पास करके भी नौकरी पा सकते हैं।
  • इन सबके अलावा अभ्यर्थी को कंप्यूटर का कोर्स करना आवश्यक है।

Bank Manager बनने के लिए क्या करें

प्राइवेट हो या सरकारी किसी भी बैंक में आपको सीधे Branch Manager नहीं बनाया जाता है। इसके लिए आपको पहले बैंक में प्रोबेशनरी अधिकारी (PO) के तौर पर काम करना होता है। इसके बाद अगर आपको प्रोमोट किया जाता है तो असिस्टेंट मैनेजर के पद पर नियुक्त किया जायेगा इसके बाद ही आप बैंक मैनेजर के पद के काबिल होते हैं। हालाकि इससे पहले कौनसी प्रक्रिया होती है चलिए जानते हैं।

1. 12वीं पास करें

सबसे पहला स्टेप अपने राज्य के सरकारी बोर्ड से 12वीं परीक्षा पास करें। कुछ अभ्यर्थी यह सोचते हैं कि बैंकिंग सेक्टर में नौकरी पाने के लिए कॉमर्स विषय को ही चुनना होता है। लेकिन ऐसा नहीं है आप साइंस, कॉमर्स या फिर आर्ट्स विषय भी ले सकते हैं।

2. ग्रेजुएशन

12वीं पास करने के बाद साइंस, कॉमर्स या फिर आर्ट्स विषय में ग्रेजुएशन की डिग्री प्राप्त करिए। इसके साथ कंप्यूटर का कोर्स अवश्य करें। क्योंकि आज के समय सभी नौकरियों पर कंप्यूटर की पढ़ाई को आवश्यक कर दिया गया है।

3. बैंक का PO एग्जाम

इसमें मुख्य तौर पर दो चरण में एग्जाम होते हैं पहले चरण में अभ्यर्थी को लिखित परीक्षा देनी होती है। जिसमें सामान्य ज्ञान और करंट अफेयर्स, जनरल इंग्लिश, मैथ, तार्किक प्रश्न पूछे जाते हैं इन सभी विषयों पर 100 प्रश्न पूछे जाते हैं इसके लिए 1 घंटे का समय दिया जाता है।

दूसरे चरण में मुख्य परीक्षा होती है जिसमें प्रथम चरण में पास हुए अभ्यर्थियों को शामिल किया जाता है इसमें माइनस मार्किंग भी होती है। इसमें भी आपको सामान्य ज्ञान और करंट अफेयर्स, जनरल इंग्लिश, मैथ, तार्किक प्रश्न पूछे जाते हैं लेकिन इसमें थोड़े कठिन प्रश्न होते हैं।

4. इंटरव्यू और बैंक PO ट्रेनिंग

अगर आप PO परीक्षा पास कर लेते हैं तो आपको इंटरव्यू के लिए बुलाया जाता है। हालाकि अब कई राज्यों में इंटरव्यू का सिस्टम बंद कर दिया गया है ऐसे में परीक्षा के बाद 1 से 2 साल के लिए PO की ट्रेनिंग दी जाती है। जिसमें आपको बैंकिंग से जुड़ी सभी चीजों का प्रशिक्षण दिया जाता है। जब आपका प्रशिक्षण पूरा हो जाता है तो आपको Bank में PO की नौकरी प्राप्त हो जाती है।

5. असिस्टेंट मैनेजर और बैंक मैनेजर

अगर आप बैंक में PO के पद पर रहकर अच्छा कार्य करते हैं तो आपको प्रमोशन के तौर पर 2-3 साल के बाद असिस्टेंट मैनेजर के पद पर नियुक्त किया जाता है। असिस्टेंट मैनेजर बनने के 3-5 साल बाद आपको ब्रांच मैनेजर बना दिया जाता है।

बैंक मैनेजर की सैलरी कितनी होती है

जब आप बैंक में PO अधिकारी के तौर पर काम करते हैं तो आपको शुरूआती बेसिक सैलरी 23,700 रूपये दी जाती है जो बैंक मैनेजर बनने तक 86,000 मासिक रूपये तक हो सकती है। हालाकि बैंक पर निर्भर करता है कि वह आपको कितनी मासिक सैलरी देना चाहती हैं। वैसे देखा गया है Government Bank की तुलना में प्राइवेट बैंक अपने कर्मचारियों को कम वेतन देती हैं।

तो अब आप जान गए होंगे कि Bank Manager कैसे बने बैंक मैनेजर बनने के लिए क्या करें आज के समय मैनेजर की नौकरी मिलना आसान नहीं है। इसके लिए काफी मेहनत और पढ़ाई की आवश्यकता होती है। इसके बाद कई परीक्षाओं को पास करना होता है। इन परीक्षाओं में टॉप करने वाले अभ्यर्थीयों को ही नौकरी प्राप्त करने का मौका मिलता है। जब भी किसी Bank की ब्रांच में PO की वैकेंसी निकलती है तो इसकी जानकारी अखबार और सरकारी वेबसाइट में मिल जाती है। अगर आप कुछ रूपये खर्च करके कोचिंग इंस्टिट्यूट ज्वाइन कर लेते हैं तो आपको कई फायदे मिलते हैं जैसे बैंक मैनेजर की तैयारी से लेकर आपको इसकी वैकेंसी की जानकारी भी मिल जाती है।

ये भी पढ़े –

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here