भारत का सबसे अमीर मंदिर कौन सा है कुल संपत्ति जानिये

आइये आज जानते हैं भारत का सबसे अमीर मंदिर कौन सा है दुनिया भर में इंडिया अपने भव्य और विशाल मंदिरों के लिए जाना जाता है। विश्व के किसी देश में शायद ही इतने मंदिर होंगे जितने भारत में हैं और इसकी मुख्य वजह आस्था है। ज्यादातर भारतीय लोग हिंदूवादी हैं और अपने भगवान में इसकी गहरी आस्था रखते हैं। वह भगवान के लिए कुछ भी करने से पीछे नहीं हटते है। हिंदू आस्तिक लोग अपने भगवान को प्रसन्न करने हेतु दान करते हैं और इसी दान की वजह से आज कई ऐसे मंदिर सामने आये हैं। जिनमें हर साल करोड़ों रुपयों का चढ़ावा होता है। इस तरह ये टेम्पल अमीर मंदिरों की श्रेणी में आते हैं।

भारत का सबसे अमीर मंदिर कौन सा है

वैसे अगर आप सोच रहे हैं कि मंदिरों के देश भारत में ही दुनिया का सबसे बड़ा मंदिर होगा तो ऐसा बिल्कुल नहीं है। जी हां विश्व का सबसे बड़ा मंदिर कंबोडिया देश में स्थित है। कम्बोडिया में अंकोरवाट यानी भगवान विष्णु जी का विशाल टेम्पल है जो 8 लाख 20 हजार वर्ग मीटर में फैला हुआ है। हालाकि अब यहाँ हिंदुओं की संख्या न के बराबर हैं ऐसे में इस मंदिर को अब सिर्फ शैलानी ही देखने आते हैं। ऐसा माना जाता है कि इस टेम्पल का निर्माण 1112 ईस्वी में राजा सूर्यवर्मन द्वितीय के दौर में किया गया था। तो चलिए अब आपको भारत के सबसे रिचेस्ट टेम्पल के बारे में बताते हैं।

भारत का सबसे अमीर मंदिर कौन सा है

आपको बता दे कि भारत का सबसे अमीर मंदिर पद्मनाभस्वामी मंदिर है। जो केरल के प्रसिद्ध शहर तिरुवनंतपुरम में स्थित है। यह न सिर्फ भारत बल्कि विश्व का सबसे अमीर टेम्पल माना जाता है। लोग अनुमान लगाते है कि पद्मनाभस्वामी टेम्पल में 1 खरब डॉलर की संपत्ति मौजूद है। हालही में जब टेम्पल के अंदर का वाल्व खोला गया तो ऐसा लगा जैसे हीरे और सोने चांदी की बाढ़ आ गयी हो।

भारत का सबसे अमीर मंदिर कौन सा है

दिन प्रतिदिन यहाँ की संपत्ति बढ़ती जा रही है क्योंकि यहां हर साल करीब 500 करोड़ रुपए का चढ़ावा आता है। इस मंदिर को द्रविड़ शैली वास्तुकला में बनाया गया है जो दक्षिण भारत में प्रचलित है। बहुत से लोग पद्मनाभस्वामी जी नाम को लेकर कंफ्यूज होंगे तो आपको बता दे कि यह टेम्पल भगवान विष्णु जी को समर्पित है।

भारत के 10 सबसे अमीर मंदिर

जैसा कि अब आपको विश्व के सबसे धनी मंदिर के बारे में पता चल गया होगा। चलिए अब आपको इनकी टॉप 10 लिस्ट बताते हैं।

  1. पद्मनाभस्वामी मंदिर तिरुवनंतपुरम, केरल वार्षिक चढ़ावा 500 करोड़ रूपये।
  2. वेंकटेश्वर मंदिर तिरुपति, आंध्रप्रदेश वार्षिक चढ़ावा 600 करोड़ रूपये।
  3. साईबाबा का मंदिर शिर्डी, वार्षिक चढ़ावा 630 करोड़ रूपये।
  4. वैष्णो देवी मंदिर जम्मू कश्मीर, वार्षिक चढ़ावा 500 करोड़ रूपये।
  5. सिद्धि विनायक मंदिर मुंबई, वार्षिक चढ़ावा 125 करोड़ रूपये।
  6. मीनाक्षी मंदिर मदुरै, वार्षिक चढ़ावा 6 करोड़ रूपये।
  7. जगन्नाथ मंदिर पुरी, वार्षिक चढ़ावा 50 करोड़ रूपये।
  8. काशी विश्वनाथ मंदिर वाराणसी, वार्षिक चढ़ावा 6 करोड़ रूपये।
  9. अमरनाथ गुफा, अनंतनाग।
  10. सबरीमाला मंदिर, पेरियार टाइगर रिज़र्व।

ऊपर दी गयी लिस्ट में मौजूद तिरुवनंतपुरम का पद्मनाभस्वामी मंदिर इतना अमीर है कि इसके आगे कोई टेम्पल नहीं टिकता। इसमें आपको रुपयों के अलावा भारी मात्रा में बेशकीमती हीरे सोने और चांदी के आभूषण देखने को मिलते हैं। जो कई वर्षों से इस टेम्पल को धनी बनाये हुए हैं। यह काफी पुराना मंदिर है जिसका जिक्र इतिहास में भी देखने को मिलता है।

तो अब आप जान गए होंगे कि भारत का सबसे अमीर मंदिर कौन सा है इस पोस्ट में आपको टॉप 10 धनी मंदिरों की भी लिस्ट बताई गयी है। जिससे आपको इंडिया के रिचेस्ट टेम्पल का अंदाजा लग गया होगा। यह सभी मंदिर इतने प्रसिद्ध है कि आपने इनका नाम अवश्य सुना होगा। ये अक्सर चढ़ावे को लेकर सुर्ख़ियों में बने रहते हैं तो उम्मीद करते हैं आज का यह पोस्ट आपके लिए ज्ञानवर्धक साबित होगा।

ये भी पढ़े –

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here