कार का आविष्कार किसने किया था और कब हुआ

आज के इस आर्टिकल के जरिए हम जानेंगे कार का आविष्कार किसने किया था और कब हुआ आज के समय में Car एक ऐसा वाहन है जो लोगों की मुख्य जरूरत में से एक बन गया है अगर किसी व्यक्ति के पास कार है तो उस कार के जरिए ही उस व्यक्ति के स्टेटस सिंबल और सुख सुविधा को देखा जाता है। वर्तमान समय में लगभग सभी के पास कार है और जिनके पास कार नहीं है वह आने वाले समय में कार को खरीदना चाहते हैं तो ऐसे में आपका यह जानना बहुत ही जरूरी हो जाता है।

कार का आविष्कार किसने किया था

Car Ka Avishkar Kisne Kiya Tha Aur Kab इसे जानने के लिए आर्टिकल को आखिर तक ध्यान से पढ़ना। इस आर्टिकल को पढ़ने के पश्चात आपको बहुत ही आनंद आने वाला है तो चलिए वक्त बर्बाद ना करते हुए आर्टिकल को जल्दी से जल्दी शुरू करते हैं और जान लेते हैं कि कार का आविष्कार किसने और कब किया था उम्मीद करता हूं कि आपको हमारा यह आर्टिकल अवश्य पसंद आएगा।

आपने कभी न कभी कार में सफर अवश्य किया होगा आपने अपने चारों ओर बहुत सी कारों को चलते देखा होगा, आपको तो पता ही है कि कार में घूमना बड़ा ही आरामदायक और फायदेमंद होता है, Car में आपको बाकी वाहनों (ट्रेन, बस, मोटरबाइक आदि) की तुलना में बहुत सी सुविधाएं देखने को मिल जाती हैं कार में 4 से 5 लोग बड़ी ही सरलता से कहीं भी घूमकर आ सकते हैं।

आपको तो पता ही होगा कि Car का सबसे अधिक फायदा हमे तब होता है, जब हम कहीं घूमने निकलते हैं और बारिश आ जाती है गर्म हवाएं चलने लग जाए या ठंड अधिक बढ़ जाए तब कार हमें इन सभी परेशानियों से बचाने में एक बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका अदा करती है।

गर्मी में हम कार की एसी ऑन कर सकते हैं ठंड के मौसम में शीशों को बंद करके बचा जा सकता है कार बारिश के मौसम में भी बहुत काम आती है इसके अलावा भी कार के बहुत फायदे हैं, जितनी सुविधा हमें कार में देखने को मिलती हैं उतनी किसी और गाड़ी में नहीं होती है।

आपकी जानकारी के लिए बता दूं कि जब मोटरगाड़ी का आविष्कार नहीं हुआ था उस समय लोग यात्रा के लिए घोड़ागाड़ी और बैलगाड़ी का प्रयोग किया करते थे, इन गाड़ियों से लोगों ने कई सालों तक यात्रा की लेकिन इनमें लोगों को यात्रा करने में काफी समय लग जाता था और इनमें यात्रा करना एक जोखिम भरा काम होता था इसीलिए वैज्ञानिकों ने एक नई प्रकार की गाड़ी बनाने का सोचा और फिर जाकर Car का आविष्कार हुआ था।

कार का आविष्कार किसने किया था

कार का आविष्कार करने का प्रयास बहुत से वैज्ञानिकों ने किया था पर वह इसमें नाकाम रहे लेकिन एक वैज्ञानिक को सफलता प्राप्त हुई थी जी हां Car का सफलतापूर्वक आविष्कार कार्ल बेंज ने किया था उनका पूरा नाम Karl Friedrich Benz था उनका जन्म 25 जनवरी 1844 को मुह्लबर्ग (कार्लज़ूए) जर्मनी में हुआ था वह पेशे से इंजन डिजाइनर व ऑटोमेटिव इंजीनियर थे उन्होंने सबसे पहले तीन पहियों वाली कार को बनाया था और उसका नाम उन्होंने मोटरवैगन (Motorwagen) रखा था।

कार का आविष्कार किसने किया था

उनके द्वारा बनाई गई कार ही सबसे पहली ऐसी कार थी जो कंबशन इंजन से चलती थी उन्होंने जिस कार का निर्माण किया था उसकी बहुत सी विशेषताएं थी जो कि निमानलिखित हैं

  1. कार्ल बेंज (Karl Benz) ने जिस कार का आविष्कार किया था वह आज के मॉडर्न जमाने वाली कारों से बिल्कुल अलग थी वह तीन पहियों वाली कार थी उसमें साइकिल के आकार वाले पहियों का प्रयोग किया गया था।
  2. इन्होने जिस कार का निर्माण किया था उसमें 954 cc के हल्के इंटरनल कंबशन इंजन का प्रयोग किया गया था, यह इंजन स्वयं Karl Benz के द्वारा डिजाइन किया गया था उस इंजन को चलाने के लिए पेट्रोल को डाला गया था।
  3. कार्ल बेंज की ‘Motorwagen’ को लंबी दूर तक उनकी पत्नी Bertha Benz ने ही चलाया था उन्होंने 5 अगस्त 1888 को अपने 2 बच्चों के साथ 105 किलोमीटर लंबी यात्रा की थी।
  4. आविष्कार कार्ल बेंज ने ‘Motorwagen’ का काम शुरू करने से पहले ही लोहे की ढलाई का कारखाना शुरू कर दिया था, उसमें उनका आर्थिक नुकसान बहुत ज्यादा हुआ और उन्हें वह बंद करना पड़ा, उस समय उनकी आर्थिक मदद उनकी पत्नी Bertha ने ही की थी और Motorwagen के निर्माण के काम को जारी रखने के लिए प्रोत्साहित किया था।
  5. Karl Benz ने ‘Motorwagen’ में प्रयोग किए जाने वाले कई कल-पुर्जों का भी निर्माण किया था जैसे कि गियर शिफ्टर्स, स्पार्क प्लग, वाटर रेडिएटर आदि।

कार का आविष्कार किसने किया था

कार का आविष्कार कब हुआ था

कार का आविष्कार सन 1885 में जर्मन ऑटोमेटिव और इंजन इंजीनियर कार्ल बेंज के द्वारा किया गया था, उनके इस आविष्कार के बलबूते ही आज हम गाड़ियों में सफर कर पाते हैं।

मोटर गाड़ी का इतिहास

बात है साल 1763 की फ्रांस के इंजीनियर अगस्त निकोलस को अपनी यात्रा में बहुत कठिनाइयां हुई क्योंकि उस समय गाड़ियां तो होती नहीं थी उसे अपनी यात्रा पूरी करने में बहुत समय लगा इसलिए उसने एक ऐसी गाड़ी बनाने का सोचा जो यात्रा को आसान और तेज बना दे।

उन्होंने साल 1763 में गाड़ी को तैयार कर दिया था उन्होंने जो गाड़ी तैयार की थी उसमें उन्होंने एक इंजन भी लगाया था लेकिन उसमें दिक्कत यह थी कि वह गाड़ी काफी भारी थी और भाप की शक्ति से ही चलती थी, इसलिए उस गाड़ी में पानी डालने की आवश्यकता होती थी और जब मोटर चलती तो वह पानी भाप के रूप में उड़ जाता था।

इस कारण उस गाड़ी में बार-बार पानी डालने की जरूरत होती थी वह सिर्फ ढाई मील प्रति घंटा ही चल पाती थी इसी गाड़ी से प्रेरणा लेकर वैज्ञानिकों और इंजीनियरों ने तरह-तरह की मोटर गाड़ियों को बनाने का काम शुरू किया था कुछ समय बाद साल 1770 में भी एक और मोटर गाड़ी बनाई गई जो पेट्रोल से चलती थी।

उसके बाद साल 1780 में जर्मनी के एक इंजीनियर ने मोटर गाड़ी का निर्माण किया उन्होंने जिस मोटर गाड़ी को तैयार किया था उसमें तीन पहियों का इस्तेमाल किया गया था, इस मोटरगाड़ी में बिजली से ज्वलन क्रिया होती थी और फिर गाड़ी के इंजन को पानी से ठंडा किया जाता था।

इसी मोटर गाड़ी को सबसे पहली सफल मोटर गाड़ी माना गया था और इसी मोटर गाड़ी से आज के जमाने के कारों की उत्पत्ति की शुरुआत हुई थी कुछ समय बाद जर्मनी के इंजीनियर डेल्मर ने पेट्रोल से बनी इस मोटर गाड़ी में काफी हद तक सुधार किया था उन्होंने इस गाड़ी में आवाज को बेहतर बनाया और गति को भी काफी बढ़ा दिया था उसके बाद यह मोटरगाड़ी 15 किलोमीटर प्रति घंटे चलने लगी थी।

उस समय मोटर गाड़ियों के पहिए लकड़ी या फिर लोहे के जरिए बनाए जाते थे जिसकी वजह से यह जमीन पर काफी घिसते थे अमेरिका के जॉन दुनलाप ने साल 1888 में पहियों में रबर ट्यूब का प्रयोग किया, इस रबर ट्यूब में हवा भरी जाती थी जिससे गाड़ी के पहिए बड़ी ही आसानी से चल सकते थे।

लेकिन मोटर गाड़ियों के मामले में सबसे अच्छी शुरुआत की Karl Benz ने उन्होंने साल 1885 में तीन पहियों वाली गाड़ी का निर्माण किया इस गाड़ी को बड़ी ही आसानी से चलाया जा सकता था, उन्होंने कार का आविष्कार तो साल 1885 में ही कर दिया था।

लेकिन उन्हें इस आविष्कार का पेटेंट साल 1886 में जाकर मिला था पेटेंट मिलने के बाद ही उन्हें कार का अधिकारिक आविष्कारक माने जाने लगा था, उसके बाद उन्होंने अपनी कार को जन प्रदर्शन के लिए भी रखा उन्होंने अपनी इस कार में और सुधार किए।

और साल 1894 में चार पहियों वाली कार का निर्माण कर दिया उन्होंने अपनी इस चार पहियों वाली कार का नाम ‘Benz Velo’ रखा थ जिसकी अधिकतम रफ़्तार 20 किलोमीटर प्रति घंटा थी इस गाड़ी में 3 हॉर्स पावर वाला इंजन लगाया गया था।

भारत में पहली बार कार कब चलाई गई थी

विश्वभर में पहिये का इस्तेमाल सबसे पहले 18वीं शताब्दी के अंत में किया गया था जबकि साल 1769 में विश्व की सबसे पहली मोटर कार का निर्माण हुआ था और अब बात की जाए कि भारत में पहली बार कार कब चलाई गई थी तो आपको बता दूं कि भारत देश में Car को सबसे पहले साल 1897 में कोलकाता के मिस्टर फोस्टर के मालिक क्रॉप्टन ग्रीवर ने खरीदा था और उन्होंने ही पहली कार को चलाया था उसके बाद भारत में 4 कारें और खरीदी गई जिनमें से 1 कार को Tata कंपनी के संस्थापक जमशेद जी टाटा ने खरीदा था।

भारत की पहली महिला कार चालक कौन थी

भारत में सबसे पहली महिला जिसने कार चलाई थी उनका ‘सुजैन आरडी टाटा’ है।

दुनिया की सबसे महंगी कार कौन सी है

दुनिया की मशहूर ऑटोमोबाइल कंपनी रोल्स रॉयस ने मई 2021 में दुनिया की सबसे महंगी कार लॉन्च की थी और इसका नाम ‘रोल्स रॉयल बोट टेल’ (Rolls-Royce Boat Tail) है, रोल्स रॉयस ने इस कार को 4 साल की कड़ी मेहनत के बाद तैयार किया था, मार्केट में इसकी कीमत 28 मिलियन डॉलर यानी 206 करोड़ रुपए से भी अधिक है।

तो कैसा लगा आपको हमारा यह आर्टिकल, इस आर्टिकल के जरिए हमने जाना कि Car Ka Avishkar Kisne Kiya Tha Aur Kab इसके साथ साथ हमने यह भी जाना कि भारत की पहली महिला कार चालक कौन थी Car के इतिहास के बारे में भी जाना उम्मीद करता हूं कि आपको हमारा यह आर्टिकल अवश्य पसंद आया होगा।

हमारी हमेशा से यही कोशिश रहती है कि हम आपके समक्ष संपूर्ण और सही जानकारी विस्तारपूर्वक तरीके से पेश करें और आप जो जानकारी जानने के लिए हमारे आर्टिकल में आए हैं वह जानकारी आपको प्राप्त हो जाए।

तो अब आप जान गए होंगे कार का आविष्कार किसने किया था और कब अगर आपको अब भी कुछ समझ नहीं आया है, या आप कोई और जानकारी प्राप्त जानना चाहते हैं तो आप आर्टिकल के नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स में कमेंट करके हमसे जरूर पूछें हम आपके कमेंट का जवाब जल्दी ही देंगे और अगर आपको हमारा यह आर्टिकल अच्छा लगा है तो इसे अपने दोस्तों और करीबियों के साथ शेयर जरूर करिएगा।

ये भी पढ़े –

घर बनाने के लिए लोन कैसे लें पूरी प्रक्रिया समझिये

भारत में सबसे पहले सूरज कहाँ निकलता है

गूगल का मालिक कौन है यह किस देश की कंपनी है

इस आर्टिकल को शेयर करें

MakeHindi.Com is a Professional Educational Platform. Here we will provide you only interesting content, which you will like very much. We’re dedicated to providing you the best of Education.

Leave a Comment