Credit Card Kya Hota Hai | क्रेडिट कार्ड क्या होता है इसके फायदे और नुकसान जानिये

Credit Card Kya Hota Hai क्रेडिट कार्ड क्या होता है के बारे में जानेंगे इसके साथ साथ हम यह भी जानेंगे कि क्रेडिट कार्ड के क्या फायदे हैं, यह कैसे काम करता है आदि। क्रेडिट कार्ड एक तरह का उधार कार्ड होता है, इसके जरिए खरीदारी की जा सकती है और बिलों का भुगतान भी बड़ी ही आसानी से हो जाता है, क्रेडिट कार्ड के बिल का भुगतान एक तय समय सीमा तक ही किया जा सकता है।

Credit Card Kya Hota Hai

आज के समय में क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल बहुत से लोगों के द्वारा किया जाता है, लेकिन कुछ लोग ऐसे भी हैं जिन्हें क्रेडिट कार्ड के बारे में कुछ खास जानकारी नहीं है।

अगर आप भी उन्हीं लोगों में से एक हैं तो आपको चिंता करने की कोई आवश्यकता नहीं है, क्योंकि इस आर्टिकल में आपको Credit Card से जुड़ी हुई सारी जानकारी दी जाएगी, इस आर्टिकल को पढ़कर आपको बहुत ही आनंद आने वाला है।

तो चलिए दोस्तों वक्त बर्बाद ना करते हुए आर्टिकल को जल्दी से जल्दी शुरू करते हैं और जान लेते हैं कि क्रेडिट कार्ड क्या होता है उम्मीद करता हूं कि आपको हमारा यह आर्टिकल अवश्य पसंद आएगा।

Credit Card Kya Hota Hai | क्रेडिट कार्ड क्या होता है

क्रेडिट कार्ड बैंकों के द्वारा जारी किया गया एक फाइनेंशियल इंस्ट्रूमेंट होता है, यह पतला सा एक प्लास्टिक का कार्ड होता है, जिसकी प्री-सेट क्रेडिट लिमिट होती है। क्रेडिट कार्ड के जरिए आपको कैशलेस ट्रांज़ैक्शन करने में मदद मिलती है, कार्ड को जारी करने वाला आपके क्रेडिट स्कोर, क्रेडिट हिस्ट्री और आपकी आय के आधार पर क्रेडिट लिमिट को निर्धारित करता है।

क्रेडिट कार्ड का मतलब ही होता है उधार खाता, अगर आपके पास कैश नहीं है तो आप क्रेडिट कार्ड के जरिए खरीदारी कर सकते हैं, और बाद में महीने के अंत में आप Credit Card के बिल का भुगतान कर सकते हैं।

क्रेडिट कार्ड के क्या फायदे हैं

इमरजेंसी में सहायक – इमरजेंसी की स्थिति में क्रेडिट कार्ड बेहद ही फायदेमंद है, बैंक अकाउंट से ज्यादा पैसे निकालने या लोन प्रोसेस में लगने वाले समय की तुलना में क्रेडिट कार्ड बहुत ही उपयोगी विकल्प है।

बेहतर क्रेडिट स्कोर – अगर आप क्रेडिट कार्ड से पैसे खर्च करते हैं और समय पर उसका भुगतान करते हैं तो आपका बेहतर क्रेडिट स्कोर बन सकता है, जो कि लंबी अवधि में आपके काफी काम आएगा खासकर तब जब आप बिजनेस लोन या पर्सनल लोन के लिए अप्लाई करेंगे।

धोखाधड़ी और गलतियों के बेहद कम अवसर – डेबिट कार्ड के मामले में ऑनलाइन पेमेंट करना काफी खतरनाक साबित हो सकता है, क्योंकि डेबिट कार्ड के अंदर आपके बैंक खाते की सारी रकम एक बार में ही उड़ाई जा सकती है और बाद में इसे वापस पाने में भी काफी समय लग सकता है, लेकिन क्रेडिट कार्ड के मामले में गलती सुधारने का पूरा मौका मिलता है।

नियमित खर्च का प्रबंधन – अगर आप नियमित तौर पर क्रेडिट कार्ड के जरिए पैसों को खर्च करते हैं तो आपको पैसों का हिसाब करने में भी बहुत आसानी होती है।

इनके अलावा भी क्रेडिट कार्ड के बहुत से फायदे हैं जैसे कि –

  • Rewards का फायदा मिलता है
  • खर्च करके हिसाब भी रख सकते हैं
  • Credit Card रखना ज्यादा सुरक्षित होता है
  • Interest Free क्रेडिट का फायदा मिल जाता है
  • पेमेंट में अधिक सुविधा मिलती है
  • Recurring Payments में आसानी होती है
  • रिचार्ज और टिकट बुकिंग कर सकते हैं
  • कैशबैक और डिस्काउंट्स मिलते हैं
  • Credit Score मजबूत होता है
  • Extra Benefits मिलते हैं

Credit Card और Debit Card में क्या अंतर होता है

Credit Card और Debit Card में मुख्य अंतर यह होता है कि डेबिट कार्ड को स्वाइप करने पर पैसे सीधे बैंक खाते से कटते हैं वहीं क्रेडिट कार्ड से खरीदारी करने पर जो पैसे कटते हैं वह आपकी Pre-Approved Limit से काटे जाते हैं।

Debit Card के मामले में खाताधारक सीधे Savings Account को एक्सेस करके खर्चों को देख सकता है, क्योंकि डेबिट कार्ड आपके सेविंग्स अकाउंट से लिंक होता है, जबकि Credit Card आपके वित्तीय संस्थान या जारीकर्ता बैंक से लिंक होता है।

कारोबारियों को Credit Card की जरूरत क्यों पड़ती है

आज के समय में Credit Card एक बहुत ही महत्वपूर्ण और लोकप्रिय आवश्यकता बन गया है, क्रेडिक कार्ड का प्रयोग खरीदारी से लेकर बिल के भुगतान जैसे सभी कामों में किया जाता है।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि Credit Card का प्रयोग खरीदारी के साथ साथ कारोबार को बढ़ाने में भी किया जा सकता है, ऐसा इसलिए क्योंकि क्रेडिट कार्ड भी एक तरह का लोन ही होता है।

हालांकि यह लोन अग्रिम मिल जाता है यानी आप अपनी जरूरत के अनुसार खरीदारी कर सकते हैं, कारोबार में बहुत सी चीजों की अचानक जरूरत पड़ जाती है, 

जैसे कि किसी उपकरण की आवश्यकता या फिर किसी समान की आवश्यकता जिनसे कारोबार की उत्पादकता पर असर पड़ रहा हो तो इसे किसी भी कीमत पर पूरा करना ही पड़ता है, क्रेडिट कार्ड को ऐसी किसी भी जरूरत के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है।

अगर आप अपने क्रेडिट कार्ड के बिल का समय पर भुगतान कर रहे हैं तो आपको पर्सनल लोन या फिर बिजनेस लोन लेने में कोई भी परेशानी नहीं आएगी।

क्रेडिट कार्ड कितने प्रकार के होते हैं 

शॉपिंग से लेकर बिजली का बिल भरने तक हर तरह की जरूरत के लिए क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल किया जा सकता है, भारत में क्रेडिट कार्ड के प्रकार निम्नलिखित हैं :-

1. शॉपिंग क्रेडिट कार्ड – अगर इस प्रकार के क्रेडिट के जरिए खरीदारी या ट्रांजैक्शन करने पर छूट का लाभ प्राप्त करना चाहते हैं तो आप पार्टनर स्टोर पर ऑनलाइन या ऑफलाइन खरीदारी कर सकते हैं, इसके जरिए आपको कैशबैक, डिस्काउंट कूपन भी मिलते हैं।

2. ट्रैवल क्रेडिट कार्ड – इस क्रेडिट कार्ड की सहायता से आप सभी एयरलाइन टिकट बुकिंग, कैब बुकिंग, रेल और बस टिकट बुकिंग, और अन्य कई सेवाओं पर छूट का फायदा उठा सकते हैं। जब भी आप टिकट बुक करेंगे तो आपको कुछ न कुछ पॉइंट्स मिलते हैं जिन्हें आप बाद में रिडीम कर सकते हैं।

3. फ्यूल क्रेडिट कार्ड – इस क्रेडिट कार्ड की सहायता से फ्यूल सरचार्ज का फायदा उठाकर आप पेट्रोल पंप के द्वारा चलाए जा रहे ऑफर्स पर छूट प्राप्त कर सकते हैं। इसके अलावा आप एक्स्ट्रा पॉइंट को इकट्ठा करके पूरे साल में काफी पैसे बचा सकते हैं।

4. बैलेंस ट्रांसफर क्रेडिट कार्ड – यह क्रेडिट कार्ड बहुत अधिक ब्याज या फिर पेनल्टी से बचाव में काम आता है, इसके जरिए आप अपने मौजूदा क्रेडिट कार्ड के बकाया को भर सकते हैं। इसके लिए आपको बैलेंस ट्रांसफर क्रेडिट कार्ड के जरिए 6 से 21 महीने तक का समय मिल जाता है। हालांकि इसको इस्तेमाल करने के लिए आपको बैलेंस ट्रांसफर फीस भी देनी पड़ती है जो कि कुल राशि की 5 प्रतिशत तक हो सकती है।

5. सिक्योर्ड क्रेडिट कार्ड – जिन लोगों का क्रेडिट स्कोर यानी सिविल स्कोर बहुत खराब होता है उन्हें सिक्योर्ड क्रेडिट कार्ड के लिए अप्लाई जरूर करना चाहिए। अगर आप कोई नया अकाउंट खोलते हैं या फिर लोन के लिए अप्लाई करते हैं तो सिक्योर्ड क्रेडिट कार्ड के जरिए आप अपने क्रेडिट स्कोर को बेहतर बना सकते हैं। जिन लोगों का क्रेडिट स्कोर बहुत ही बेकार होता है, उन लोगों के लिए सिक्योर्ड क्रेडिट कार्ड बहुत ही उपयोगी है।

6. रिवार्ड क्रेडिट कार्ड – इस प्रकार के क्रेडिट कार्ड में ट्रांजैक्शन करने पर कुछ न कुछ रिवार्ड मिलने की गारंटी जरूर होती है, अगर आप क्रेडिट कार्ड से ट्रांजैक्शन करते हैं तो आपको कैशबैक ऑफर्स भी दिए जाते हैं।

क्रेडिट कार्ड काम कैसे करता है | How Credit Card Works

1. बैंक किस आधार पर क्रेडिट कार्ड को जारी करते हैं? 

बैंक आपको क्रेडिट कार्ड तभी देता है जब आप बैंक से ली गई उधार राशि को चुकाने में समर्थ होते हैं, कार्ड जारी करने वाला बैंक आपके क्रेडिट स्कोर, क्रेडिट हिस्ट्री और आपकी आय के आधार पर क्रेडिट लिमिट को निर्धारित करता है।

2. पैसे चुकाने के लिए 60 दिन का समय मिलता है

अगर आप समय पर क्रेडिट कार्ड के बिल का भुगतान नहीं करते हैं तो आपको जुर्माना भरना पड़ेगा, क्रेडिट कार्ड का बिल जनरेट होने और खरीदारी करने के बीच आपको 50 से 60 दिन की कर्जमुक्त अवधि दी जाती है।

क्रेडिट कार्ड के नियम व शर्तें | Credit Card Rules And Regulations

क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल करने के लिए आपको वार्षिक शुल्क व रिन्युवल शुल्क देना होता है, अलग-अलग क्रेडिट कार्ड के लिए ये शुल्क भिन्न-भिन्न भी हो सकते हैं।

क्रेडिट कार्ड के जरिए क्रेडिट कार्डधारक केवल क्रेडिट लिमिट तक ही पेमेंट कर सकता है।

क्रेडिट कार्ड के जरिए ATM से नकद निकालने की सीमा क्रेडिट कार्ड की लिमिट का 80 प्रतिशत होती है।

ये भी पढ़े –

FAQs Credit Card Kya Hota Hai | क्रेडिट कार्ड क्या है

क्रेडिट कार्ड क्या काम में आता है?

क्रेडिट कार्ड के जरिए आप किसी भी तरह की पेमेंट को ऑनलाइन माध्यम से कर सकते हैं जैसे कि बिल का भुगतान करना, बस टिकट बुक करना, रेल टिकट बुक करना, फीस भरना आदि, क्रेडिट कार्ड के जरिए पेमेंट करने पर आपको बोनस रिवार्ड प्वाइंट, गिफ्ट वाउचर भी दिए जाते हैं।

क्रेडिट कार्ड के क्या नुकसान हैं?

क्रेडिट कार्ड के मिनिमम पेमेंट के चक्कर में आप कभी कभी बहुत ज्यादा ब्याज भर रहे होते हैं, अगर आप ध्यान से देखेंगे तो आप मिनिमम पेमेंट तो कर रहे होते हैं लेकिन मूलधन काम नहीं होता है। अगर आप मिनिमम ड्यू पे करते हैं तो आपको बकाया राशि का 2 से 4 प्रतिशत ब्याज देना पड़ता है।

क्रेडिट कार्ड की पेमेंट ना करें तो क्या होगा?

अगर आप क्रेडिट कार्ड की पेमेंट नहीं करेंगे तो आपको डिफॉल्टर घोषित कर दिया जाएगा, इसके साथ साथ आपके क्रेडिट कार्ड को भी ब्लॉक कर दिया जाएगा, क्रेडिट कार्ड के बिल को न भरने पर बैंक आपके ऊपर कानूनी कार्यवाही भी कर सकता है।

तो दोस्तों कैसा लगा आपको हमारा यह आर्टिकल, इस आर्टिकल के जरिए हमने Credit Card Kya Hota Hai के बारे में जाना, इस आर्टिकल में हमने आपको क्रेडिट कार्ड के बारे में विस्तार से जानकारी प्रदान की है।

दोस्तों हमारी तरफ से हमेशा यही कोशिश रहती है कि हम आपके सामने संपूर्ण जानकारी विस्तारपूर्वक तरीके से पेश कर पाएं, और आप जो जानकारी जानने के लिए हमारे इस आर्टिकल में आए हैं, वह जानकारी आपको मिल जाए।

Conclusion

अगर आपको हमारा यह आर्टिकल क्रेडिट कार्ड क्या होता है अच्छा लगा है, तो इसे अपने दोस्तों और करीबियों के साथ शेयर जरूर करिएगा। आज के लिए इतना बहुत है, जल्द ही मिलते हैं किसी नए आर्टिकल में नए टॉपिक के साथ। उम्मीद करता हूं कि आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया है, अगर आपको इस आर्टिकल में कुछ भी समझ नहीं आया है, या आप कोई और जानकारी प्राप्त करने के इच्छुक हैं, या हमारे लिए आपके पास कोई और सुझाव है, तो आप आर्टिकल के नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स में कमेंट करके हमें अपनी राय दे सकते हैं, हम आपके कमेंट का जवाब जल्द से जल्द देने का प्रयास करेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here