हार्ट अटैक के लक्षण क्या होते है

हार्ट अटैक के लक्षण क्या होते है बदलती जीवन शैली में सर्दी जुकाम और बुखार जैसे रोग होना आम बात हो गयी है जो कुछ दिन के उपचार के बाद ठीक हो जाते हैं. हम सभी जानते है कि जब किसी व्यक्ति को कोई रोग होता है तो उस व्यक्ति पर रोग के लक्षण पहले से ही दिख जाते हैं. अगर रोग के लक्षण को पहचान कर उसकी जांच करके इलाज किया जाए तो रोग या बीमारी को आसानी से ठीक किया जा सकता है. बात करे हार्ट अटैक की तो यह एक ऐसा रोग है जिससे है कोई पीड़ित है हार्ट अटैक का रोग ख़राब जीवन शैली या गलत खान पान से होता है. अगर समय रहते इसका इलाज किया जाए तो इस बीमारी को ठीक किया जा सकता है.

हार्ट अटैक के लक्षण क्या होते है
heart attack ke lakshan

आज बहुत कम लोगो को पता है कि हार्ट अटैक के लक्षण क्या क्या है जानकारी के आभाव में लोग इस रोग को पहचान नहीं पाते हैं. आपको बता दे कि जब यह रोग किसी व्यक्ति को होता है तो इसके लक्षण एक महीने पहले से दिखने शुरू हो जाते हैं ऐसे में अगर शुरुआत में ही इसके लक्षण पहचान कर इसका इलाज शुरू किया जाए तो इस रोग से पीड़ित मरीज की जान बचाई जा सकती है.

डॉक्टरों के मुताबिक लोगों को अपनी सेहत के प्रति सतर्क और जागरूक रहना चाहिए इससे अगर कोई बीमारी होती है तो उसे शुरू में ही पकड़ा जा सकता है और बीमारी से होने वाले गंभीर परिणामों से बचा जा सकता है. हार्ट अटैक की बात करे तो यह एक दम से होने वाली शारीरिक घटना है जिसमें व्यक्ति को संभलने तक का मौका नहीं मिलता है. हालाकि हार्ट अटैक एक महीने पहले ही अपने लक्षण यानी Symptoms दिखाना शुरू कर देता है तो हार्ट अटैक के लक्षण क्या क्या है चलिए हिंदी में जानते हैं.

हार्ट अटैक के लक्षण क्या होते है

चक्कर आना – यदि आपको कुछ दिनों से चक्कर आ रहे हैं तो इसकी वजह हार्ट अटैक हो सकता है क्योंकि इस बीमारी में आपका दिल कमजोर हो जाता है जिसका नतीजा ये होता है कि आपका रक्त संचार प्रभावित हो जाता है. इससे आपके दिमाग को आवश्यकता के अनुसार ऑक्सीजन नहीं मिल पाती है जिसके परिणामस्वरुप चक्कर आने शुरू हो जाते हैं.

साँस लेने में परेशानी – हार्ट अटैक में साँस लेने में परेशानी होती है क्योंकि इस रोग में दिल सही से काम नहीं करता है जिस वजह से फेफड़ो तक ऑक्सीजन पहुंचने में मुस्किल आती है. अगर आपको साँस की बीमारी नहीं है और आपको साँस लेने में कठिनाई हो रही है तो यह हार्ट अटैक का लक्षण हो सकता है.

पैरों में या शरीर के अन्य हिस्सों में सुजन आ जाना – इस रोग में दिल को ज्यादा काम करना पड़ता है मतलब शरीर के सभी अंगो में रक्त पहुँचाने के लिए ज्यादा मेहनत करनी पड़ती है. इस वजह से शरीर में मौजूद शिराएं फूल जाती है. इसका नतीजा ये होता है कि आपके पैरों में या फिर शरीर के किसी अन्य हिस्से में सुजन आ जाती है.

लगातार सर्दी जुकाम बने रहना – इस बीमारी में रोगी को लगातार सर्दी जुकाम रहती है इसका कारण ये है कि जब दिल आन्तरिक अंगों में रक्त संचार करता है तो फेफड़ो में रक्त आने की सम्भावना बढ़ जाती है. इस वजह से रोगी के कफ में सफेद या गुलाबी रंग का बलगम निकलता है.

छाती के दायें हिस्से में दवाब महसूस होना – इस रोग का सबसे मुख्य लक्षण छाती में असहजता का महसूस होना है. यहां असहजता से मतलब सीने में जलन होना या फिर सीने में किसी तरह का दवाब होना है. यदि आपके सीने में किसी तरह का दवाब या जलन हो रही है तो यह हार्ट अटैक का लक्षण हो सकता है.

लगातार थकान महसूस होना – यदि आपको बिना काम किये थकान महसूस हो रही है तो यह दिल की बिमारी का संकेत हो सकता है क्योंकि इस बीमारी में दिल या ह्रदय की धमनियां कोलेस्ट्रोल के कारण सिकुड़ जाती हैं या फिर बंद हो जाती हैं. इसके कारण दिल को कार्य करने के लिए ज्यादा मेहनत करनी पड़ती है. इस वजह से रोगी को लगातार थकान महसूस होती है.

अन्य लक्षण – जैसे सिर हल्का महसूस होना, कभी कभी होंठों पर नीलापन आना, शुरुआत में उल्टी जैसा मन करना या फिर उल्टी आना, कंधे गर्दन और पीठ में दर्द होना, अशांत मन और बैचेनी होना, साँस फूलना आदि.

तो अब आप जान गए होंगे कि हार्ट अटैक के लक्षण क्या होते है वैसे तो ये Symptoms एक महीने पहले ही दिखने शरू हो जाते हैं यदि आप इन लक्षणों को पहचान जान जाते है तो इसके रोग के इलाज में थोड़ी आसानी हो जाती है. ऊपर बताये गए लक्षणों में से कोई सा भी लक्षण दिखे तो आपको तुरंत डॉक्टर से जांच करवा कर डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए.

ये भी पढ़े –

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here