KYC क्या है जानिए KYC की पूरी जानकारी

क्या आपको पता है kyc क्या है जब आप कोई बैंक अकाउंट ओपन करवाते है तो आपको KYC करवाने की जरुरत पड़ती है तो आखिर ये kyc क्या होता है आपको बता दे कि बैंक में अकाउंट खोलने में, म्युचुअल फंड अकाउंट ओपन करवाने में, बैंक लॉकर्स, ऑनलाइन म्युचुअल फंड खरीदने और सोने में निवेश करने के लिए KYC करवाना जरूरी होता है. अगर आप इसके बारे में नहीं जानते तो आज हम आपको इसकी जानकारी आसान भाषा में देने वाले हैं जिससे आप इसके बारे में अच्छे से और जल्दी समझ जायें.

KYC क्या है
kyc kya hai

KYC क्या है

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि KYC की फुल फॉर्म Know Your Customer होती है. जिसका हिंदी में अर्थ होता है कि अपने ग्राहक को पहचानना. बैंक या कोई कंपनी अपने कस्टमर यानी आपकी पहचान करती है तो इस केवाईसी यानी पहचानने की प्रक्रिया में बैंक आपसे आपके कुछ डॉक्यूमेंट मांगता है आपके ये डॉक्यूमेंट केवाईसी दस्तावेज या डॉक्यूमेंट कहलाते हैं. तो हम सभी जानते है ये डॉक्यूमेंट बैंक हमसे कब मांगता है तो जब हम कोई नया बैंक अकाउंट खुलवाते हैं, म्युचुअल फंड अकाउंट ओपन करवाते हैं, बैंक लॉकर्स या ऑन लाइन म्युचुअल फंड खरीदते है तो हमसे कंपनी या बैंक हमारे सभी पहचान वाले KYC डॉक्यूमेंट मांगे जाते हैं.

इन सबके अलावा जब हम सिम कार्ड लेते हैं तो अपनी पहचान के लिए हम अपना आधार कार्ड वेरीफाई करते हैं इस प्रक्रिया को भी KYC कहते हैं. आपको बता दे कि अगर आपका बैंक अकाउंट डोर्मेंट हो गया है यानी अकाउंट निष्क्रिय हो गया है तो बैंक आपके डोर्मेंट अकाउंट को फिर से चालू करने के लिए आपके KYC डॉक्यूमेंट मांगता है. तो अब आप जान गए होंगे कि ये kyc क्या होता है अब जान लेते है कि इन kyc डॉक्यूमेंट में आपके कौन कौन से डॉक्यूमेंट आते हैं.

KYC डॉक्यूमेंट में क्या होते हैं

इन KYC डॉक्यूमेंट में आपके आइडेंटिटी प्रूफ, आपके एड्रेस प्रूफ और आपका हालही का पासपोर्ट साइज़ का फोटो आता है आप अपने आइडेंटिटी और आपके एड्रेस प्रूफ में कोई भी वैलिड आईडी प्रूफ जैसे आधार कार्ड, वोटर आईडी, ड्राइविंग लाईसेंस, पासपोर्ट या पैन कार्ड लगा सकते हैं हालाकि पैन कार्ड सिर्फ आइडेंटिटी प्रूफ होता है इसमें आपका पता नहीं होता है लेकिन बाकि के डॉक्यूमेंट में आप अपने एड्रेस को भी वेरीफाई कर सकते हैं. ये सभी डॉक्यूमेंट केवाईसी दस्तावेज कहलाते हैं.

अब आपको समझ में आ गया होगा कि kyc क्या है या kyc क्या होता है तो जब भी आप अपनी पहचान वेरीफाई करवाते है तो इस प्रक्रिया को KYC कहते हैं. बैंक और वित्तीय संस्थानों में केवाईसी बहुत महत्वपूर्ण होता है क्योंकि इस प्रक्रिया से व्यक्ति की असली पहचान सुनिश्चित हो जाती है. यदि आवेदक की केवाईसी प्रक्रिया पूरी हो जाती है तो इससे जालसाजी या धोखेधड़ी की सम्भावना कम हो जाती है.

12 COMMENTS

  1. Sir Apne is Post me Bahut Acchi Jankri share ki hai. Is Post ko Read krne ke bad mujhe KYC ke Bare me Puri jankari Mil gai Hai..

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here