LTE और VoLTE में क्या अंतर है

LTE और VoLTE में क्या अंतर है आज के समय लगभग सभी स्मार्टफोन 4G फीचर के साथ आ रहे हैं लेकिन 4G तकनीक भी दो तरह की होती है. इस वजह से बहुत से ग्राहकों में एलटीई और वोएलटीई को लेकर असमंजस सा रहता है. बहुत से लोग नहीं जानते कि इन LTE और VoLTE में फर्क क्या है और इनके होने से स्मार्टफोन को क्या क्या फायदा होता है. आपको बता दे कि LTE स्मार्टफोन की तुलना में VOLTE स्मार्टफोन थोड़ा मंहगा होता है और किस वजह से होता है ये आप इस पोस्ट को पढ़ने के बाद जान जायेंगे.

LTE और VoLTE में क्या अंतर है

जिओ के लांच होने के पहले भारत के ज्यादातर लोगो के पास 3G स्मार्टफोन हुआ करते थे क्योंकि उस समय 4G डेटा काफी महंगा हुआ करता था. जिस वजह से बहुत से लोग अपने मोबाइल में नेट चलाने से हिचकिचाते थे लेकिन जब जिओ 4G नेटवर्क लांच हुआ तो भारतीय मार्केट में 4G स्मार्टफोन की मांग काफी तेजी से बढ़ गयी थी क्योंकि जिओ ने लांच होने ही फ्री डेटा उपलब्ध कराया था और जिओ की वजह से बहुत से लोग 3G फोन से 4G फोन पर शिफ्ट हो गए थे.

अब ऐसी स्थिति हो गयी है कि 3G फोन को कोई पूछ भी नहीं रहा है जिस वजह से 3G फोन की कीमत काफी गिर गयी हैं. आपको ऑफलाइन स्टोर या ऑनलाइन स्टोर जैसे फ्लिप्कार्ट और अमेज़न में पहले की तुलना में बहुत सस्ते 3G फोन मिल जायेंगे लेकिन इनमें जिओ का सपोर्ट न मिलने के कारण आप भी इन स्मार्टफोन को नहीं खरीदना चाहेंगे.

जब लोग 3G फोन से 4G पर शिफ्ट हो रहे थे तो 4G में उनको दो ऑप्शन मिले पहला 4G LTE है और दूसरा 4G VoLTE है कुछ लोग तो इनके बारे में जानते हैं लेकिन आज भी ऐसे बहुत से लोग हैं जो इनके बारे में कुछ भी नहीं जानते हैं. अगर आपको भी LTE और VoLTE में अंतर पता नहीं है तो आज हम आपको इसी बारे में बताने जा रहे हैं. इन दोनों में फर्क जानने के बाद आप बिना किसी कंफ्यूजन के अपने लिए बेस्ट 4G मोबाइल ले सकते हैं. तो चलिए जानते हैं.

LTE और VoLTE में क्या अंतर है

1 . आपको बता दे कि LTE की फुलफॉर्म लॉन्ग टर्म इवोल्यूशन होती है जबकि VoLTE की फुलफॉर्म वॉयस ओवर लॉन्ग टर्म इवोल्यूशन होती है. आपको इनकी फुलफॉर्म में भी अन्तर देखने को मिलता है. दोनों तकनीक 4G को सपोर्ट करती है. LTE को आम भाषा में नार्मल 4G कहा जाता है जबकि VoLTE को फुल 4G कहा जाता है.

2. LTE को आमतौर पर इन्टरनेट कनेक्टिविटी के लिए बनाया गया था लेकिन इसमें कुछ खामी निकलकर सामने आयी थी. इन खामी को दूर करने के लिए LTE का अपग्रेड वर्जन VoLTE पेश किया गया है जिसमें आपको इन्टरनेट के साथ Voice का भी सपोर्ट मिलता हैं.

3. इस LTE नेटवर्क में जब आप इन्टरनेट का इस्तेमाल करते हैं और इस दौरान आपके स्मार्टफोन में कॉल आ जाए तो आपका इन्टरनेट कनेक्शन बंद हो जाता है जबकि VoLTE में ऐसा नहीं है इसमें इन्टरनेट यूज़ करने के दौरान कॉल आती है तो आपका इन्टरनेट कनेक्शन बंद नहीं होगा.

4. इन दोनों में कॉल की क्वालिटी को लेकर भी काफी अंतर है LTE में जहां आप नार्मल Voice कॉल का आनंद ले सकते हैं जबकि VoLTE में Voice कॉल की क्वालिटी HD होती है मलतब इससे मिलने वाली कालिंग क्वालिटी LTE, 3G, 2G से काफी अच्छी होती है.

5. VoLTE में आप आसानी से वीडियो कॉल कर सकते हैं. इसमें वीडियो कॉल करने के लिए थर्ड पार्टी एप जैसे स्काइप, गूगल डुओ, व्हाट्सएप आदि की जरुरत नहीं पड़ती है. इनके बिना भी आप HD वीडियो कॉल कर सकते हैं. जबकि LTE में HD वीडियो कॉल करने के लिए थर्ड पार्टी एप जैसे स्काइप, गूगल डुओ, व्हाट्सएप आदि की सहायता लेनी पड़ती है.

6. मोबाइल फोन की बात करे तो LTE नेटवर्क से लेस स्मार्टफोन, VoLTE से लेस स्मार्टफोन की तुलना में थोड़े सस्ते होते हैं और इसकी मुख्य वजह फीचर है क्योंकि VoLTE में LTE की तुलना में थोड़े अच्छे फीचर मिलते हैं. इस वजह से VoLTE मोबाइल थोड़े महंगे होते हैं. अगर आप फुल 4G नेटवर्क सपोर्ट वाला स्मार्टफोन लेना चाहते है तो आपको VoLTE वाला स्मार्टफोन लेना चाहिए.

ये भी पढ़े –

तो अब आप जान गए होंगे कि LTE और VoLTE में क्या अंतर है भारत में इन दोनों तकनीक के आने की बात करे तो एयरटेल ऐसी पहली टेलिकॉम कंपनी है जिसने साल 2012 में भारत में सबसे पहले LTE नेटवर्क की शुरुआत की थी. वहीं VoLTE को भारत में जिओ कंपनी लेकर आयी है हालाकि अब लगभग सभी टेलिकॉम कंपनियां LTE और VoLTE नेटवर्क का प्रयोग करने लगी हैं.

इस आर्टिकल को शेयर करें

MakeHindi.Com is a Professional Educational Platform. Here we will provide you only interesting content, which you will like very much. We’re dedicated to providing you the best of Education.

5 thoughts on “LTE और VoLTE में क्या अंतर है”

Leave a Comment