मैन ऑफ द मैच कौन तय करता है 90% क्रिकेट प्रेमी नहीं जानते

मैन ऑफ द मैच कौन तय करता है या कौन चुनता है आज के समय बड़े से बड़े क्रिकेट फैन्स भी इसके बारे में नहीं जानते हैं. हमारे देश में क्रिकेट को एक धर्म की तरह मानते हैं यहां क्रिकेट के खिलाड़ियों को फैन्स सिर आँखों पर बैठा के रखते हैं. जब भी भारत के किसी स्टेडियम में मैच होता है तो लोग 2 दिन पहले ही उसके टिकेट खरीद लेते हैं. मैच स्टार्ट होने के पहले ही लोग स्टेडियम पर पहुँच जाते है और मैच के बाद होने वाली प्रजेंटेशन तक रुके रहते हैं.

मैन ऑफ द मैच कौन तय करता है 90% क्रिकेट प्रेमी नहीं जानते

इस बीच स्टेडियम में बैठे क्रिकेट प्रेमी मैच का आनंद उठाते हुए अनुमान लगाते है कि छक्का कौन लगाएगा, शतक कौन लगाएगा और मैच कौन जीतेगा. इसके साथ ही जब मैच ख़त्म हो जाता है तो क्रिकेट फेंस मैन ऑफ द मैच का अनुमान लगा लेते हैं.

अगर आप क्रिकेट प्रेमी है तो आपको पता ही होगा कि हर मैच के बाद मैन ऑफ द मैच चुना जाता है. इसमें सबसे अच्छे प्रदर्शन करने वाले खिलाड़ी को मैन ऑफ द मैच का अवार्ड दिया जाता है. वैसे तो ज्यादातर जीतने वाली टीम के खिलाड़ी को ही मैन ऑफ द मैच का अवार्ड दिया जाता है लेकिन कभी कभी ये अवार्ड हारने वाली टीम के खिलाड़ी को भी दे दिया जाता है.

क्या आप जानते है कि किस आधार पर मैन ऑफ द मैच चुना जाता है और मैन ऑफ द मैच कौन से लोग सेलेक्ट करते है. अगर आप नहीं जानते तो हम आपको इसी बारे में बताने जा रहे हैं. तो चलिए जानते हैं.

मैन ऑफ द मैच कौन तय करता है

आमतौर पर मैन ऑफ द मैच उस खिलाड़ी को दिया जाता है जो मैच में सबसे अच्छा प्रदर्शन करता है इस अच्छे प्रदर्शन से मतलब अच्छी औसत के साथ सबसे ज्यादा रन बनाने या विकेट लेने से है. कई बार ऐसा भी हुआ है जब हारने वाली टीम को मैन ऑफ द मैच चुना गया हो लेकिन क्या आप जानते हैं मैन ऑफ द मैच चुनने का फैसला कौन लेता है. इस सवाल का जवाब लगभग 90% क्रिकेट प्रेमी भी नहीं जानते हैं इसलिए आज हम आपको बता रहे हैं कि आखिर मैन ऑफ द मैच कौन चुनता है.

इसे चुनने के लिए एक पैनल बनाया जाता है इस पैनल में मैच के दौरान कॉमेंट्री कर रहे कॉमेंटेटर्स शामिल होते हैं ये वो लोग होते हैं जो मैच पर पैनी नजर रखते हैं और जिनके पास मैच की अच्छी खासी जानकारी होती है. इस कॉमेंट्री पैनल के सदस्य आपस में वोट करते हैं जिस खिलाड़ी के पक्ष में सबसे ज्यादा वोट आते हैं उसे मैन ऑफ द मैच चुना जाता है.

आपको बता दे कि अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में मैन ऑफ द मैच चुनने का यही तरीका है इस पैनल में मैच में कॉमेंट्री कर रहे कॉमेंटेटर्स के अलावा पूर्व खिलाड़ी और मैच रेफ़री को भी शामिल किया जाता है. हालाकि वर्ल्ड कप या चैम्पियंस ट्राफी जैसे बड़े टूर्नामेंट में मैन ऑफ द मैच या मैन ऑफ द सीरीज चुनने के लिए एक अलग कमेटी तैयार की जाती है और फिर फैसला होता है कि आखिर कौन बनेगा मैन ऑफ द मैच.

मैन ऑफ द मैच का ख़िताब सबसे ज्यादा बार किस खिलाड़ी ने जीता है

मैन ऑफ द मैच कौन चुनता है ये तो आप जान गए होंगे और अब आप ये भी जानना चाहते होंगे कि आखिर सबसे ज्यादा बार किस खिलाड़ी ने मैन ऑफ द मैच का ख़िताब जीता है. तो आपको बता दे कि ये रिकॉर्ड क्रिकेट के भगवान कहे जाने वाले सचिन तेंदुलकर के पास है. मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर ने अपने करियर में सबसे ज्यादा 62 बार मैन ऑफ़ दी मैच का रिकॉर्ड अपने नाम किया है.

सचिन भारत की तरफ से 463 वनडे मैच खेल चुके हैं जिसमें उन्होंने 86.23 की स्ट्राइक रेट के साथ 18,426 रन बनाये हैं. अपने वनडे करियर में सचिन ने 49 शतक और 96 अर्धशतक लगाये हैं. वहीं टेस्ट फॉर्मेट की बात करे तो सचिन ने टेस्ट क्रिकेट में 200 मैच खेले जिसमें उन्होंने 51 शतक और 68 अर्धशतक की मदद से 15,921 रन बनाए हैं.

तो अब आप जान गए होंगे कि मैन ऑफ द मैच कौन तय करता है या कौन चुनता है अगर आपसे कोई क्रिकेट प्रेमी ये सवाल पूछता है तो अब आप उसे आसानी से जवाब दे सकते हैं. अगर आपको ये जानकारी अच्छी लगी हो तो इसे सोशल मीडिया पर अपने दोस्तों के साथ शेयर जरुर करे.

ये भी पढ़े –

मैन ऑफ द मैच कौन तय करता है 90% क्रिकेट प्रेमी नहीं जानते
Rate this post

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here