Original Whey Protein की पहचान कैसे करे 10 तरीके

आज के पोस्ट में हम आपको Original Whey Protein की पहचान कैसे करे इसके बारे में बताने जा रहे हैं। आज के समय हर युवा अपनी अच्छी बॉडी बनाना चाहता है और जब भी बॉडी बनाने की बात होती है तो सबसे पहले दिमाग में एक चीज आती है और वो जिम है। बॉडी बनाने के लिए जिम जाने के साथ सप्लीमेंट की जरुरत भी पड़ती है। जहां तक सप्लीमेंट की बात करे तो इस समय Whey Protein काफी लोकप्रिय हो रहा है। इसकी सहायता से कम समय में अच्छी बॉडी बनाई जा सकती है। जिस तरह इस सप्लीमेंट की लोकप्रियता बढ़ी है उसके साथ इससे मिलते जुलते नकली Whey Protein भी बाजार में आ गए हैं।

original whey protein ki pehchan

असली और नकली Whey Protein में अंतर कर पाना थोड़ा मुस्किल है लेकिन नामुमकिन नहीं। अगर आप जिम जाते हैं तो वहां के ट्रेनर ने भी आपको ओरिजिनल व्हे प्रोटीन लेने की सलाह दी होगी। ऐसा इसलिए है क्योंकि असली Whey Protein बॉडी बनाने में जितना फायदा पहुंचाता है। उतना ही नुकसान नकली व्हे प्रोटीन से होता है। ऐसे में आपको सुनिश्चित कर लेना चाहिए कि आप जिस Protein का इस्तेमाल कर रहे हैं वह असली है या नहीं।

Original Whey Protein की पहचान कैसे करे

बाजार में मिलने वाले लगभग सभी असली प्रोटीन ब्रांड की कॉपी करके नकली उत्पाद बनाये जा रहे हैं। इसलिए इस पोस्ट में हम आपको कुछ ऐसे तरीके बताने जा रहे हैं जिससे आप असली और नकली Whey Protein की पहचान कर सकते हैं।

1. अगर आपने कहीं से प्रोटीन खरीद लिया है तो इसका असलियत पता करने के लिए एक चम्मच प्रोटीन को 200 से 300ml पानी में घोलकर देखे। यदि सप्लीमेंट पूरी तरह से घुला नहीं है तो यह नकली है क्योंकि असली सप्लीमेंट पानी में पूरी तरह से घुल जाता है।

2. नकली प्रोटीन पाउडर में स्वाद नहीं होता है हालाकि कुछ नकली सप्लीमेंट में आपको थोड़ा मीठापन देखने को मिलेगा। ऐसे में इसे पीने पर ऐसा लगता है मानो आप मीठा पानी पी रहे हैं।

3. नकली प्रोटीन की पहचान का सबसे आसान तरीका डिब्बे में लगा लेबल है। डुप्लीकेट व्हे प्रोटीन के डिब्बे में लगे लेबल में अक्सर स्पेलिंग की गलती देखने को मिलती है। इसके अलावा आपको इनका लेबल थोड़ा ऊपर नीचे भी देखने को मिलेगा।

ऐसा इसलिए होता है क्योंकि नकली प्रोटीन बनाने वाले लोग डिब्बे पर लेबल चिपकाने का काम हाथों से करते हैं। इस वजह से लेबल सही तरीके से नहीं लग पाता है। जबकि असली प्रोटीन की कंपनियां यह काम मशीनों के द्वारा करती है.

4. कई प्रोटीन की कंपनियां अपने डिब्बे पर होलोग्राम भी लगाती हैं। चूँकि यह काम मशीन के द्वारा होता है ऐसे में आपको कंपनी के अलग अलग डिब्बों पर एक ही तरीके से और एक ही जगह होलोग्राम लगा मिलेगा। ऐसे में आपको प्रोटीन खरीदते वक्त किसी एक कंपनी के दो अलग अलग डिब्बों को चेक करना चाहिए।

5. आज के समय ज्यादातर कंपनियां अपने प्रोटीन के डिब्बों पर बारकोड भी लगाकर देती है। आपको असलियत का पता लगाने के लिए इस बारकोड को अपने स्मार्टफोन से स्कैन करना चाहिए। इससे आप किसी प्रोडक्ट के असली या नकली होने का पता लगा सकते हैं। डुप्लीकेट में आपको या तो बारकोड मिलेगा ही नहीं अगर मिल भी जाता है तो वह स्कैन ही नहीं होगा।

6. आपको डिब्बे पर दी गयी तारीख को जरुर चेक करना चाहिए। यह बात लगभग सभी खाने पीने के प्रोडक्ट पर लागू होती है। जहां तक बात करे व्हे प्रोटीन की तो इसके डिब्बे में भी आपको इससे बनाने और एक्सपायर होने की तारीख देखने को मिल जाएगी।

7. जब आप नकली Whey Protein का इस्तेमाल करते है तो आप बहुत कम समय में ही मोटे हो जाते हैं। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि नकली प्रोटीन में दो तरह की दवाएं मिलायी जाती हैं। पहली वाटर रिटेंशन और दूसरी भूख बढ़ाने की। यदि प्रोटीन के पाउडर में वाटर रिटेन करने वाली दवा डाली गयी है तो इससे आपका शरीर एक महीने के अन्दर ही फूल जाता है।

यदि पाउडर में भूख बढ़ाने वाली दवा मिलायी गयी है तो इससे आपको तेज भूख लगने लग जाएगी। जब आप इस नकली प्रोटीन के पाउडर को पीना बंद कर देते हैं तो आपका शरीर बापस से दुबला पतला हो जाता है। जबकि Original Whey Protein में ऐसा नहीं होता है।

8. आज कल जितने भी व्हे प्रोटीन बनाने वाली कंपनियां है उनकी अपनी अलग वेबसाइट है। इन वेबसाइट में आपको कंपनी के अपने प्रोडक्ट और बाजार में मिलने वाले नकली प्रोडक्ट की पहचान भी बताई जाती है। ऐसे में आप जिस भी कंपनी का व्हे प्रोटीन ले रहे हैं एक बार उनकी वेबसाइट को भी अच्छे से चेक कर ले।

9. ज्यादातर प्रोटीन बनाने वाली कंपनियों के अपने अलग ऑनलाइन स्टोर हैं। ऐसे में अगर आप ओरिजिनल व्हे प्रोटीन लेना चाहते है तो आपको इन कंपनियों के ऑनलाइन स्टोर के माध्यम से ही ऑर्डर करना चाहिए। यह कंपनी अपने ऑनलाइन स्टोर के माध्यम से आपके घर आपका प्रोडक्ट पहुंचा देंगी।

10. अगर आप एक स्मार्टफोन यूजर है तो आपको बता दे कि कंपनियों की वेबसाइट में अक्सर ऑथोराइज्ड डीलर का नाम और पता दि‍या होता है। ऐसे में आपको Whey Protein हमेशा ऑथोराइज्ड डीलर से ही खरीदना चाहिए।

तो अब आप जान गए होंगे कि Original Whey Protein की पहचान कैसे करे यहां हमने आपको 10 आसान तरीके बताये जिनकी मदद से आप असली और नकली प्रोटीन पाउडर का पता लगा सकते हैं। अगर आप बॉडी बनाना चाहते है तो आपको सिर्फ Whey Protein पर ही निर्भर नहीं रहना है। आपको अच्छी बॉडी बनाने के लिए अच्छी डाइट भी लेना जरुरी है।

ये भी पढ़े –

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here