ओटीपी क्या होता है हिंदी में मतलब जानिये

इस पोस्ट में जानेंगे ओटीपी क्या होता है हिंदी में मतलब जब भी आप अपने मोबाइल या PC से ऑनलाइन कोई लेनदेन करते हैं या फिर कोई अकाउंट बनाते हैं तो आपके वेरिफिकेशन के लिए मोबाइल में एक OTP Code आता है। जिसे कन्फर्म करते ही आपका लेनदेन या अकाउंट बन जाता है। आज की डिजिटल दुनिया में अधिकतर काम ऑनलाइन हो गए हैं वो चाहे मोबाइल रिचार्ज करना हो या एटीएम से पैसे निकालना हो। अब ज्यादातर काम ऑनलाइन ही किये जाने लगे हैं और इनकी सुरक्षा बढ़ाने के लिए खासकर पैसों के मामलों में OTP का उपयोग किया जा रहा है। आपने भी कभी न कभी ओटीपी का प्रयोग जरुर किया होगा जब भी पैसों के लेनदेन की बात होती है।

ओटीपी क्या होता है

खासकर ऑनलाइन लेनदेन करने पर तो यहाँ सभी को सिक्यूरिटी की चिंता रहती है क्योंकि ऑनलाइन पैसे ट्रान्सफर करना जितना आसान है उतना ही जोखिमों भरा भी होता है ऐसे में सुरक्षा की चिंता रहना लाजमी है। लेकिन अब आप कोई भी लेनदेन करते हैं तो आपको एक्स्ट्रा सिक्यूरिटी के तौर पर OTP का ऑप्शन दिया जाता है जिससे काफी हद तक फ्रौड से बचा जा सकता है। ऐसे में आपको जानना चाहिए OTP Kya Hota Hai in Hindi इसके आलावा ओटीपी का प्रयोग अकाउंट के वेरिफिकेशन के लिए भी किया जाता है जैसे आप किसी वेबसाइट या ऐप में अकाउंट क्रिएट करते हैं। तो आपको वेरीफाई करने के लिए आपके मोबाइल में एक One Time Password भेजा जाता है जिसे एंटर करने के बाद आपका अकाउंट क्रिएट हो जाता है।

ओटीपी क्या होता है

आपकी जानकारी के लिए बता दे ओटीपी का मतलब और फुल फॉर्म One Time Password होती है OTP भी एक तरह से आपका पासवर्ड होता है लेकिन यह कोड एक समय में एक बार ही जेनेरेट होता है। जब भी आप कोई ऑनलाइन लेनदेन करते हैं तो उस समय आपके रजिस्टर मोबाइल में 6 अंक का कोड भेजा जाता है जिसे ओटीपी कहते हैं। हर लेनदेन में सिस्टम द्वारा एक नया ओटीपी भेजा जाता है।

मतलब आप जितने बार भी लेनदेन करेंगे हर बार आपको नया अंक का OTP देखने को मिलेगा। One Time Password इसके नाम से मतलब निकल रहा है कि यह एक बार उपयोग किये जाने वाला पासवर्ड है जो आपके रजिस्टर मोबाइल में या आपकी ईमेल आईडी में भेजा जाता है। यह सिर्फ बैंक तक ही सीमित नहीं है इसका उपयोग गूगल अकाउंट, अमेज़न, फ्लिप्कार्ट और बहुत सी वेबसाइट, ऐप्स में होता है।

ओटीपी क्यों जरुरी होता है

जब भी हम किसी वेबसाइट या फिर ऐप में पर अकाउंट बनाते हैं तो ज्यादातर लोग आसान सा यूजरनाम और पासवर्ड बना लेते हैं। जैसे अक्सर लोग अपनी डेट ऑफ बर्थ या मोबाइल नंबर को अपना पासवर्ड बना लेते हैं और यही उनकी सबसे बड़ी गलती होती है। क्योंकि हैकर लोग ऐसे ही आसान यूजरनाम और पासवर्ड वाले अकाउंट को टारगेट करते हैं।

कई केस में ऐसा भी होता है जैसे आपके पहचान का कोई व्यक्ति आपके यूजरनेम और पासवर्ड को पहले ही जानता है। ऐसे में वह आसानी से आपके अकाउंट को एक्सेस करके उसका गलत फायदा उठा सकता है। इसी समस्या के समाधान के लिए सभी बैंक, ई-कॉमर्स वेबसाइट, पेमेंट करने वाले ऑनलाइन वॉलेट ने OTP का इस्तेमाल करना शुरू कर दिया है। इसके बिना आप न ही मुख्य पासवर्ड रिसेट कर सकते हैं और न ही पैसों का किसी प्रकार का ऑनलाइन लेनदेन कर सकते हैं।

ओटीपी का उपयोग

इस OTP की सबसे अच्छी बात यह है कि सिस्टम से मोबाइल में भेजे गए ओटीपी कोड को सिर्फ एक बार ही इस्तेमाल किया जा सकता है और यह कुछ समय के लिए ही वैलिड रहता है। अगर इस कोड को इसके समय के अंदर इस्तेमाल नहीं किया गया तो यह किसी काम का नहीं होता है।

हर ट्रांजेक्शन में सिस्टम द्वारा एक नया ओटीपी आपके मोबाइल में भेजा जाता है। यानी हम जितने भी ऑनलाइन ट्रांजेक्शन करेंगे उन सभी में अलग अलग OTP आयेंगे इससे आपका अकाउंट और भी ज्यादा सुरक्षित हो जाता है।

अगर आपके अकाउंट का यूजरनाम और पासवर्ड किसी को पता चल जाता है तो वह आपके अकाउंट का गलत फायदा नहीं उठा पायेगा। क्योंकि अकाउंट को पूरी तरह से एक्सेस करने में ओटीपी का जरुरत पड़ता है जो सिर्फ आपके मोबाइल में आता है।

इसका इस्तेमाल कहाँ कहाँ किया जाता है

आज के समय लगभग सभी बैंकों ने ऑनलाइन पैसों के लेनदेन के लिए OTP की प्रक्रिया शुरू कर दी गयी है। यहाँ तक कि अब आपको ATM में 10 हजार से अधिक पैसे निकालने पर One Time Password एंटर करना पड़ता है। इससे अगर किसी को आपका कार्ड और पिन पता है तब भी वह उसका गलत इस्तेमाल नहीं कर पायेगा ओटीपी सबसे ज्यादा बैंकिंग के छेत्र में ही कारगर साबित हो रही है।

गूगल ने भी अपने यूजर के अकाउंट को सुरक्षित रखने के लिए OTP भेजना शुरू कर दिया है। अगर आप इसे एक्टिवेट कर लेते हैं तो कोई भी आपके बिना आपका अकाउंट एक्सेस नहीं कर पायेगा क्योंकि गूगल अकाउंट लॉग इन करने के लिए आपके मोबाइल में One Time Password भेजता है जो सिर्फ आपको पता चलेगा।

इन सबके अलावा e commerce कंपनियां जैसे Amazon, Flipkart, Snapdeal, Ebay और ऑनलाइन पेमेंट करने वाले सभी वॉलेट जैसे Paytm, Jio Money, Phonepe, Freecharge आदि सभी पेमेंट करने पर आपके रजिस्टर मोबाइल नंबर पर ओटीपी भेजते हैं। इस तरह ऑनलाइन की दुनिया में ओटीपी एक महत्वपूर्ण प्रक्रिया बन गयी है।

OTP के फायदे क्या है

1. यह एक प्रकार का सुरक्षा कोड होता है जो पासवर्ड और यूजरनाम चोरी होने पर भी आपके अकाउंट को सुरक्षित रखता है।

2. इससे अकाउंट के वास्तविक यूजर का प्रमाणीकरण हो जाता है।

3. यह डबल सिक्यूरिटी प्रदान करता है जैसे आजकल कुछ लोगो के सोशल मीडिया अकाउंट हैक हो जाते हैं लेकिन अगर वह अपने अकाउंट लॉग इन में ओटीपी के फीचर को इनेबल करते हैं। तो सिर्फ वो ही अपने अकाउंट को लॉग इन कर सकते हैं।

4. OTP एक दम फ्री होता है इसके लिए आपको किसी भी प्रकार का शुल्क देने की जरुरत नहीं है।

5. अपने ओरिजिनल यूजर की पहचान करने के लिए यह सबसे तेज तरीका है।

तो अब आप जान गए होंगे कि ओटीपी क्या होता है अक्सर One Time Password के मैसेज में इसे किसी से शेयर न करने के लिए कहा जाता है क्योंकि यह एक ऐसा पासवर्ड होता है जो किसी लेनदेन के लिए काफी जरुरी होता है। और यह सिर्फ एक समय के लिए ही जेनरेट होता है और यह काफी संवेदनशील होता है इसलिए आपको OTP को किसी दूसरे व्यक्ति के पूछने पर भी नहीं बताना चाहिए। फ्रौड लोग अक्सर इसी ओटीपी को मांगते है जिससे वह आपके अकाउंट को कण्ट्रोल कर सकते हैं ऐसे में आपको OTP को किसी से शेयर नहीं करना चाहिए। तो उम्मीद करते हैं यह जानकारी आपके लिए ज्ञानवर्धक साबित होगी।

ये भी पढ़े –

4 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here