पेड़ के पत्‍ते हरे क्यों होते हैं असल कारण जानिए

आज जानेंगे कि पेड़ के पत्‍ते हरे क्यों होते हैं। दुनिया के लगभग सभी जीव जंतुओं के विकास के लिए भोजन काफी जरुरी है। भोजन के बिना जीव जंतुओं का संघर्ष करना काफी मुस्किल है। इसी तरह किसी पौधे से पेड़ बनने के लिए उसे भी भोजन की आवश्यकता पड़ती है। अब आप सोच रहे होंगे कि आखिर पेड़ पौधे भोजन कैसे करते हैं। अगर आपने कभी विज्ञान पढ़ा है तो आपको भी पता होगा कि पेड़ पौधे प्रकाश संश्लेषण की प्रक्रिया द्वारा भोजन ग्रहण करते हैं और इस प्रक्रिया में क्लोरोफिल जैसे घटक अहम भूमिका निभाते हैं।

पेड़ के पत्‍ते हरे क्यों होते हैं

दरअसल पेड़ पौधे भोजन के लिए हवा पानी और सूर्य के प्रकाश का उपयोग करते हैं और अधिकतर पेड़ पौधों में इनके पत्‍ते भोजन बनाने का काम करते है। पेड़ के पत्‍ते सूर्य से मिली ऊर्जा को संग्रहीत यानी स्टोर कर लेते है। जब पेड़ को भोजन की आवश्यकता होती है। तो बाद में यह पत्‍ते स्टोर की हुई सूर्य प्रकाश की ऊर्जा का उपयोग करके भोजन बनाते हैं भोजन बनाने की इस प्रक्रिया को प्रकाश संश्लेषण कहा जाता है।

पेड़ के पत्‍ते हरे क्यों होते हैं

आपने अक्सर देखा होगा कि ज्यादातर पेड़ के पत्‍ते हरे होते हैं। तो इसके पीछे क्या कारण है जैसा कि हमने आपको बताया कि पेड़ के पत्‍ते प्रकाश संश्लेषण की प्रक्रिया से भोजन बनाते है। इसमें कुछ घटक भी पत्तियों की मदद करते हैं जिसमें एक मुख्य घटक क्लोरोफिल है।

क्लोरोफिल हरे रंग का होता है और जब सूर्य का प्रकाश पेड़ की पत्तियों पर पड़ता है। तो यह क्लोरोफिल के निर्माण यानी पोषण को बढ़ा देता है जिसके परिणामस्वरूप पेड़ की पत्तियों का रंग हरा हो जाता है। क्लोरोफिल की मदद से पत्तियां हवा, पानी और प्रकाश की मौजूदगी में भोजन का निर्माण करती हैं।

सूर्य प्रकाश की गैर मौजूदगी में पत्‍ते में मौजूद अन्य घटक जोकि पीले रंग का होता है। इसकी मात्रा बढ़ जाती है इसी कारण सूर्य प्रकाश के आभाव में पेड़ के पत्‍ते पीले रंग के हो जाते हैं।

कुछ पेड़ों में मौजूद अन्य घटक जैसे लाल और बैंगनी रंग के भी अपना प्रभाव दिखाते है। इसी वजह से कुछ पेड़ के पत्‍ते अन्य रंग के नजर आते हैं।

आपने देखा होगा कि शरद ऋतु में जब सूर्य की रौशनी अधिक ताकतवर नहीं होती है तो पेड़ के पत्तों का रंग पीला, लाल या बैंगनी हो जाता है। यहां क्लोरोफिल की तुलना में अन्य घटक अपना रंग दिखाते है अर्थात इनकी मात्रा क्लोरोफिल से अधिक हो जाती है।

अब आप सोच रहे होंगे कि कुछ पेड़ पौधे के रंग शुरू से हरा न होकर किसी अन्य रंग के होते हैं। तो इसके पीछे क्या वजह है। आपको बता दे कि क्लोरोफिल घटक तो सभी में पाया जाता है क्योंकि भोजन बनाने में अहम भूमिका अदा करता है।

लेकिन अन्य रंग के पत्तों में क्लोरोफिल की तुलना में पीले, लाल और बैंगनी रंग के रसायन अधिक पाए जाते हैं। पत्तियों में इनकी मात्रा इतनी अधिक होती है कि इनमे हरा रंग छुप जाता है। इसलिए पत्तियां हरा होने की बजाय किसी दूसरे रंग की दिखती हैं।

तो अब आप जान गए होंगे कि पेड़ के पत्‍ते हरे क्यों होते हैं जिस तरह भोजन हमारे लिए काफी महत्वपूर्ण है। उसी तरह पेड़ पौधों के लिए भी भोजन महत्वपूर्ण होता है। बिना भोजन के इस दुनिया में किसी भी जीव जंतु का जीवित रह पाना संभव नहीं है। पेड़ पौधे प्रकाश संश्लेषण की प्रक्रिया से भोजन बनाते हैं और इसमें क्लोरोफिल घटक भोजन बनाने में मदद करता है जो की हरे रंग का होता है और पत्‍ते को हरा रंग प्रदान करता है।

ये भी पढ़े –

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here