पेट्रोल की चोरी कैसे होती है पेट्रोल चोरी से कैसे बचे

पेट्रोल की चोरी कैसे होती है पेट्रोल की चोरी से कैसे बचे हम सभी जानते है कि इस समय पेट्रोल डीजल काफी कीमती ईधन है कई देश की अर्थव्यवस्था तो इस तरह के तेल ईधनो पर ही टिकी है ये देश अपने यहां निकलने वाले तेल ईधनो को बेचकर अपनी अर्थव्यवस्था को मजबूत करने में लगे हुए है. हमारे देश की बात करे तो भारत में पेट्रोल और डीजल का उत्पादन नहीं होता है भारत दूसरे देशों से इन तेलों को खरीदकर आयात करता है इस कारण भारत में इन तेलों की काफी कीमत है. आपने कई बार सुना होगा कि किसी पंप पर तेल की चोरी होती है और शायद आप जिस पंप पर तेल डलवाते है उसपर भी धोखाधड़ी होती हो क्योंकि पंप में थोड़ी से चालाकी से पंप वाले फ्री में लाखों रूपये कमाते हैं तो आज हम आपको बताने वाले है कि पेट्रोल पंप वाले कैसे चोरी करते है और इससे कैसे बचा जा सकता है तो चलिए जानते है.

पेट्रोल की चोरी कैसे होती है पेट्रोल की चोरी से कैसे बचे

पेट्रोल की चोरी कैसे होती है

मान लीजिये आप किसी पेट्रोल पंप पर गए और आपने वहां 500 रूपये का तेल डलवाया. चुकीं 500 रूपये के तेल को डलवाने में 1 से सवा मिनिट का समय लगता है इस वक्त आपका पूरा ध्यान पंप में चल रही रीडिंग को देखने में लग जाता है इस बीच अगर पंप के कर्मचारी 10 सेकंड के लिए भी पंप के हैंडल हो बंद कर देते है तो आपको 500 रूपये के तेल में 50 से 100 रूपये की चपत लग जाती है. आपका ध्यान रीडिंग देखने में लग जाता है इस बीच तेल गाड़ी के टैंक में जा रहा है या नहीं इसका आपको कुछ भी मालूम नहीं होता है.

पिछले साल यूपी में कई पेट्रोल पंप पर चिप से तेल चोरी का खुलासा हुआ था इस खुलासे से पता चला कि पम्प के मालिकों से ने इंजीनियरों की मदद से एक खास तरह की चिप बनवाकर अपने पम्पों में लगवाई थी जब भी कोई तेल डलवाने आता था तो ये चिप आटोमेटिकली टेंक में जाने वाले तेल को कम कर देती है इससे ग्राहकों को पैसे तो पूरे देने पड़ते है लेकिन उन्हें तेल कम मिलता है इससे पम्प के मालिकों को फ्री में लाखों का फायदा होता है.

पेट्रोल की चोरी से कैसे बचे

आपको तेल को उसी पम्प से भरवाना चाहिए जहां पर डिजिटल मीटर वाली मशीन लगी हो क्योंकि पुरानी मशीन में धोखाधड़ी का सम्भावना ज्यादा रहती है और ऐसे मीटर पर आप आसानी से चोरी भी नहीं पकड़ सकते हैं. इस धोखाधड़ी को कम करने के लिए अब पुरानी मशीन की जगह डिजिटल मशीन लगाई जा रही हैं.

अगर पम्प का मीटर काफी तेज चले तो समझ लेना कुछ गड़बड़ी है मीटर की तेज गति से भी तेल कम दिया जाता है ऐसे में आप पेट्रोल पंप कर्मी से मीटर की स्पीड कम करने को कह सकते हैं.

गाड़ी की टंकी को हमेशा आधे से ज्यादा भरा रखना चाहिए इसका कारण यह है कि आपकी गाड़ी की टंकी जितना खाली रहेगी, उसमें हवा उतनी ही अधिक रहेगी. ऐसे में तेल भरवाने के बाद हवा के कारण तेल की मात्रा घट जाती है.

कभी भी पेट्रोल को राउंड फिगर की रकम में नहीं भरवाना चाहिए. जैसे कई लोग 100, 200, 500 और 2000 की राउंड फिगर की रकम में तेल भरवाते हैं. कई पेट्रोल पंप मालिक ऐसे नंबर के लिए पहले ही मशीन को फिक्स करके रखते हैं जिसमें आपको कम तेल मिलता है इसलिए 90, 190, 490 या 2010 जैसी रकम में ही तेल को भरवाना चाहिए.

अगर आप चार पहिये या बड़ी गाड़ी में डीजल भरवाते हैं तो आपको नीचे उतरकर ही और पम्प के पास खड़े रहकर ही डीजल भरवाना चाहिए. अगर आप गाड़ी के अन्दर बैठे रहते हैं तो पम्प के कर्मचारी इसका फायदा उठाते हैं पम्प कर्मचारी कुछ समय के लिए नोजल को स्विच ऑफ कर देते हैं इससे गाड़ी में कम डीजल डलता है.

मीटर को हमेशा जीरो पर सेट करके तेल भरवाना चाहिए क्योंकि यदि मीटर जीरो पर सेट नहीं है तो टैंक में कम पेट्रोल या डीजल डलने की सम्भावना रहती है. इसके अलावा आप जब भी पेट्रोल और डीजल डलवाए तो तो मीटर की रीडिंग के साथ पम्प कि नोजल को भी देखते रहे.

तो अब आप जान गए होंगे कि पेट्रोल की चोरी कैसे होती है पेट्रोल की चोरी से कैसे बचे अगर आपको भी ऐसा लग रहा है कि पेट्रोल भरवाते समय आपके साथ भी धोखा हो रहा है तो ऊपर बताये गए उपायों को जरुर आजमाकर देखे आप भी इस तरह की धोखाधड़ी से बच सकते हैं अगर आपको ये जानकारी पसंद आयी है तो इसे सोशल मीडिया पर अपने दोस्तों को शेयर जरुर करे.

ये भी पढ़े –

पेट्रोल की चोरी कैसे होती है पेट्रोल चोरी से कैसे बचे
Rate this post

3 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here