पावर बैंक असली है या नकली कैसे पता करे

आज हम आपको पावर बैंक असली है या नकली कैसे पता करे इसके बारे में बताने जा रहे हैं. वर्तमान समय में बाजार में एक से बढ़कर एक स्मार्टफोन आ रहे हैं लेकिन ज्यादा फीचर होने की वजह से भी इन स्मार्टफोन की बैटरी ज्यादा देर तक नहीं चल पाती है. ज्यादातर कंपनियां अब काफी पॉवरफुल मोबाइल फोन बनाने में लगी है ऐसे फोन में आपको काफी अच्छे फीचर देखने को मिल जाते हैं. लेकिन कही न कही कंपनियों को ज्यादा पावर वाली बैटरी बनाने में भी ध्यान देना चाहिए क्योंकि बिना बैटरी के मोबाइल एक डब्बे के समान हो जाता है. हालाकि बाजार में इसका ऑप्शन भी मौजूद है अब आप पावर बैंक से अपने स्मार्टफोन को चार्ज कर सकते हैं.

पॉवर बैंक असली है या नकली कैसे पता करे

पावर बैंक एक ऐसा प्रोडक्ट है जो किसी भी मोबाइल फोन को दो से तीन बार आसानी से चार्ज कर देता है. अगर आप ऐसी जगह पहुँच जाते हैं जहां मोबाइल चार्ज करने की व्यवस्था नहीं होती है तो ऐसी जगह में पावर बैंक काफी मददगार साबित होता है. वैसे देखा जाए तो बाजार में नकली पावर बैंक की भरमार है ऐसे में लोग कंफ्यूज हो जाते है कि कौनसा पावर बैंक असली है और कौनसा नकली है.

बहुत से लोगो के मन में सवाल होता है कि उनको कितने mAh का पावर बैंक खरीदना चाहिए तो आपको बता दे कि अगर आपके मोबाइल में 3000 mAh के आसपास की बैटरी है तो आपको तीन गुना ज्यादा मतलब 10000 mAh का पावर बैंक खरीदना चाहिए. इसके साथ पावर बैंक किसी बड़ी कंपनी का होना चाहिए इससे आप अपने फोन को तेजी से चार्ज कर सकते हैं.

पावर बैंक असली है या नकली कैसे पता करे

अगर आप बाजार से पावर बैंक खरीदने जा रहे हैं तो आपको कुछ बातों का ख्याल रखना चाहिए क्योंकि नकली पावर बैंक आपके मोबाइल के चार्जिंग सिस्टम को खराब कर सकते हैं. यहाँ हम आपको कुछ ऐसी ही बाते बताने जा रहे हैं जिनसे आप असली नकली पावर बैंक में अंतर कर सकते हैं.

1. जब आप किसी पावर बैंक को खरीदते हैं तो उसमें आप किसी ब्रांड का नाम जरुर देखते हैं लेकिन अगर इसमें ब्रांड का नाम नहीं लिखा है तो आपको समझ जाना है पावर बैंक नकली है. हालाकि ज्यादातर पावर बैंक में ब्रांड का नाम जरुर लिखा होता है ऐसे में आपको एक बार नाम जरुर चेक कर लेना चाहिए.

2. नकली पावर बैंक का वजन हल्का होता है. अगर आप 10000 mAh की पावर बैंक ले रहे हैं तो इसमें आपको थोड़ा वजन देखने को मिलेगा. चूँकि इसमें 10000 mAh बैटरी होती है तो जाहिर सी बात है इसमें वजन भी होगा. ऐसे में आपको इसमें वजन को चेक जरुर करना चाहिए.

3. फेक पावर बैंक सस्ते होते हैं ऐसे में अगर आप किसी सस्ते प्रोडक्ट की तलाश में है तो आपको एक बार इनकी प्राइस पर भी ध्यान देना चाहिए क्योंकि सस्ते पावर बैंक महज कुछ दिन ही चलते है यह लम्बे समय तक नहीं टिक पाते हैं. अगर आप किसी अच्छे ब्रांड का पावर बैंक खरीदते है तो यह काफी अच्छा बैटरी बैकअप देते हैं.

4. असली पावर बैंक को कुछ इस तरह से डिजाईन किया जाता है कि यह मोबाइल फोन को जल्दी से चार्ज कर सके. जब भी आप इस प्रोडक्ट को खरीदे तो एक बार अपने मोबाइल को कनेक्ट करके जरुर देख लेना चाहिए. इससे आपको पता चल जायेगा कि जिस प्रोडक्ट को आप खरीद रहे हैं वह आपके फोन को जल्दी चार्ज करेगा या नहीं.

5. ज्यादातर ब्रांडेड पावर बैंक में चार्जिंग के अलावा दूसरे फीचर नहीं आते हैं. इनको सिर्फ अच्छे चार्जिंग फीचर के साथ बनाया जाता है. असली पावर बैंक में म्यूजिक प्लेयर, डिस्प्ले, LED लाइट आदि जैसे फीचर नहीं होते हैं. अगर आप नया पावर बैंक खरीद रहे हैं तो आपको एक बार इसके फीचर पर भी ध्यान देना चाहिए.

ये भी पढ़े –

तो अब आप जान गए होंगे कि पावर बैंक असली है या नकली कैसे पता करे यहाँ हमने आपको कुछ मुख्य बातों को बताया है जिनसे आप असली नकली पावर बैंक के बीच अंतर जान सकते हैं. हालाकि यह सभी तरीके ऑफलाइन स्टोर पर काम करेंगे लेकिन अगर आप इस प्रोडक्ट को ऑनलाइन खरीदने की सोच रहे हैं तो आपको प्रोडक्ट के रिव्यु और रेटिंग को जरुर चेक कर लेना चाहिए. अगर किसी पावर बैंक की रेटिंग 4 से ऊपर है और उसके काफी अच्छे रिव्यु है और वह किसी ब्रांडेड कम्पनी का है तो उसके असली होने के चांस ज्यादा होते हैं.

पावर बैंक असली है या नकली कैसे पता करे
5 (100%) 2 votes

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here