Referral Code क्या होता है रेफरल कोड कैसे बनाएं

Referral Code Kya Hota Hai: अगर आप भी इंटरनेट का इस्तेमाल करते हैं तो आपने Referral Code के बारे में जरुर सुना होगा इंटरनेट में जितने भी डेवलपर या फिर कंपनीज है वह अपने प्रोडक्ट जैसे कि ऐप के डाउनलोड और यूजर्स बढ़ाने के लिए अक्सर रेफरल प्रोग्राम का इस्तेमाल करती हैं।

इससे यूजर और कंपनी दोनों का फायदा होता है जैसे कंपनी या डेवलपर के रेफर प्रोग्राम इस्तेमाल करने से उसके ग्राहक की संख्या में इजाफा होता है जो नार्मल की तुलना में काफी अधिक होता है। वहीं अगर यूजर Refer Code का इस्तेमाल करता है तो उसे कुछ रूपए दिए जाते हैं।

अगर आप इंटरनेट का इस्तेमाल करते हैं तो आप भी Referral Code Meaning in Hindi को अवश्य जानना चाहते होंगे जब भी मार्केट में कोई नई ऐप, वेबसाइट या कंपनी आती है। कंपनी का सबसे पहला लक्ष्य ग्राहक बढ़ाना होता है क्योंकि ग्राहक होंगे तभी तो उनकी सेल बढ़ेगी। इसके लिए कंपनी या तो इंटरनेट में अपना विज्ञापन देती है या फिर रेफर एंड अर्न प्रोग्राम जैसा कारगार तरीका अपनाती हैं।

रेफरल कोड क्या होता है

यह प्रोग्राम ज्यादातर आपको उन एप में देखने को मिलेगा जिसमें रियल पैसे कमाने का सिस्टम होता है। जैसे ड्रीम11 इसमें आप रियल पैसे कमा सकते हैं हालाकि यह काफी पुरानी कंपनी है लेकिन अपने यूजर बढ़ाने के लिए यह आज भी रेफर एंड अर्न का प्रोग्राम चला रहे हैं। क्योंकि इनको अच्छी तरह से पता है कि इनके बिजनेस को बढ़ाने के लिए रेफरल प्रोग्राम एक कारगार तरीका है तो चलिए जानते हैं Referral Code Kaise Banaye.

Referral Code क्या होता है

दरअसल रेफरल कोड या लिंक एक तरह से ट्रैकिंग कोड होता है इससे यह पता लगाया जा सकता है कि शेयर किये गए लिंक में कितने लोगो ने Referral Code का इस्तेमाल किया है। जो भी यूजर इस रेफरल कोड का उपयोग करता है उसे एप की तरफ कुछ रूपए की राशी दी जाती है वहीं इससे एप की कंपनी को पता चल जाता है कि Refer से उसके कितने ग्राहक बढ़े हैं।

आपको बता दे कि रेफरल कोड एक यूनिक कोड होता है जिससे यह भी पता लगाया जा सकता है कि कितने लोगो ने एप या वेबसाइट में साइन अप किया है। अगर आप भी किसी एप के रेफर एंड अर्न प्रोग्राम के तहत कोई लिंक शेयर करते हैं और उसमें Referral Code का ऑप्शन रहता है तो जब भी आपके दोस्त, फॉलोअर्स या रिश्तेदार आपके शेयर किये गए लिंक में क्लिक करके उसमें आपका रेफरल कोड डालते हैं तो इससे आपको कुछ कमीशन मिलता है।

रेफरल कोड कैसे बनाएं

सबसे पहले आपको उस एप को गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करना होगा और उसपर अपना अकाउंट बनाएं अकाउंट बनाने के लिए आपको अपना मोबाइल नंबर या फिर जीमेल आईडी दोनों की जरुरत पड़ सकती है। जैसे ही आपका अकाउंट बन जायेगा इसके बाद आपको एप के रेफर एंड अर्न वाले ऑप्शन पर जाना यहाँ आपको रेफरल कोड और इसका शेयर करने का लिंक मिल जायेगा।

इस तरह आप भी किसी एप के Referral Code प्रोग्राम को इस्तेमाल करके पैसे कमा सकते हैं और यह बिलकुल फ्री होता है इसमें आप जितने ज्यादा लोगो को जोड़ेंगे आपको उतने ज्यादा रूपए मिलेंगे।

Referral Code के फायदे

आपने अक्सर देखा होगा कि सोशल मीडिया साईट जैसे फेसबुक व्हाट्सएप में आपके दोस्त आपको किसी एप का लिंक भेजते हैं साथ ही एक यूनिक रेफरल कोड भी बताते हैं जिसे आपको एप में अकाउंट बनाते समय डालना होता है। इतना करते ही आपका एप में अकाउंट बन जाता है और आपके Referral Code इस्तेमाल करने से आपके दोस्त को कुछ कमीशन मिल जाता है। इससे आपका और एप बनाने वाली कंपनी दोनों का फायदा होता है लेकिन कैसे चलिए जानते हैं।

सबसे पहले कंपनी के फायदे के बारे में जानते हैं जैसा कि हमने आपको बताया कि जब भी कोई नई कंपनी मार्केट में एंटर करती है तो उसे ग्राहकों की जरुरत होती है। ऑफलाइन में तो विज्ञापन ही इसका सरल तरीका होता है लेकिन इंटरनेट की दुनिया में किसी प्रोडक्ट का प्रचार करने के कई तरीके मिल जाते हैं जिनमे से एक रेफरल प्रोग्राम भी है।

उदाहरण के तौर पर ड्रीम 11 एक कंपनी है जिसके ऐप और वेबसाइट दोनों मौजूद हैं इनका बिजनेस कुछ इस तरह का है कि इनके जितने यूजर हैं यह उनके लिए उतने ही कम हैं। कहने का मतलब आज ड्रीम 11 को करोड़ों लोग इस्तेमाल करते हैं लेकिन यह ऐसा प्लेटफार्म है जहां अनलिमिटेड ग्राहक हो सकते हैं। यहीं वजह है कि ड्रीम 11 जैसी कंपनी आज भी विज्ञापन के अलावा रेफर एंड अर्न का प्रोग्राम चलाती हैं।

रेफरल प्रोग्राम से इनको अपने नये और पुराने यूजर को कुछ कमीशन देना होता है इससे इनके यूजर काफी तेजी से बढ़े हैं। इस तरह कंपनी महज कुछ रूपए देकर अपने ग्राहक बढ़ा सकती हैं वहीं यूजर को भी इससे फायदा होता है क्योंकि उनको सिर्फ शेयर करने से और नए यूजर जोड़ने से रेफर एंड अर्न प्रोग्राम के तहत पैसे मिलते हैं।

ये भी पढ़े

FAQs – Referral Code Meaning in Hindi

रेफरल कोड का मतलब क्या है?

रेफरल कोड को ट्रेकिंग कोड भी कहते हैं क्योंकि इस कोड को जब भी कहीं पर एंटर किया जाता है तो इससे कंपनी को पता चल जाता है इस कोड से उनके कितने ग्राहक बढ़े हैं अर्थात् उनके ऐप को रेफरल कोड से कितने लोगो ने इंस्टाल किया है।

रेफरल कोड कितने अंकों का होता है?

रेफरल कोड को जारी करने वाली कंपनी अपनी तरफ से एडिट कर सकती हैं मुख्यता रेफरल कोड 4 अंक या इससे ज्यादा का होता है।

रेफरल कोड से पैसे कैसे कमाए?

जब भी आप किसी एप में साइनअप करते हैं और उस एप में रेफरल प्रोग्राम है तो आपको एक यूनिक कोड दिया जाता है जिसे रेफरल कोड कहते हैं इसे शेयर करके आप पैसे कमा सकते हैं।

Referral Code कैसे बनाते हैं?

रेफरल कोड बनाने के लिए आपको उस एप को डाउनलोड करना होगा जिसमें रेफरल प्रोग्राम चल रहा हो इसके बाद आप अपने यूनिक रेफरल कोड को शेयर कर सकते हैं।

रेफरल कोड से क्या फायदा होता है?

रेफरल कोड से कंपनी और कस्टमर दोनों को फायदा होता है क्योंकि इससे कंपनी को पता चल जाता है उसके कितने ग्राहक ने रेफरल कोड इस्तेमाल किया है वहीं कस्टमर को इससे पैसे मिलते हैं।

निष्कर्ष

तो अब आप जान गए होंगे कि रेफरल कोड क्या है वैसे देखा जाए तो रेफर एंड अर्न प्रोग्राम काफी अच्छा सिस्टम है क्योंकि इससे यूजर और कंपनी दोनों को फायदा होता है। इसमें आप अपने रेफर लिंक और कोड से जितने ज्यादा यूजर जोड़ेगे आपको उतने ज्यादा रूपए मिलेंगे।

अगर आपको भी आपके दोस्त कोई रेफर लिंक सेंड करते हैं तो आपको समझ जाना है कि यहाँ आपके अकाउंट बनाने से आपके दोस्त को पैसे मिलेंगे ऐसे में आप भी इसे ज्वाइन करके अपना रेफरल प्रोग्राम शुरू कर सकते हैं। अगर आपको यह आर्टिकल अच्छा लगा है तो इसे शेयर अवश्य करें।

Previous articleइंस्टाग्राम प्राइवेट अकाउंट कैसे देखें 2023 के टॉप Instagram Private Account Viewer
Next articleआर्मी भर्ती की तैयारी कैसे करें Indian Army Join Kaise Kare
MakeHindi.Com is a Professional Educational Platform. Here we will provide you only interesting content, which you will like very much. We’re dedicated to providing you the best of Education.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here