Train Driver Kaise Bane 2019 में लोको पायलट की जानकारी

आज हम आपको Train Driver Kaise Bane 2019 में इसके बारे में बताने जा रहे हैं. देश में बहुत से स्टूडेंट होते हैं जिनका सपना Loco Pilot बनने यानी भारतीय रेल चलाने का होता है. लेकिन जानकारी के आभाव में अपने सपने को पूरा नहीं कर पाते हैं. उनको पता नहीं होता है कि Train Driver बनने के लिए क्वालिफिकेशन यानी योग्यता क्या होती है. इसकी परीक्षा का सिलेबस क्या होता है. बहुत से स्टूडेंट 10th के बाद ही ट्रेन के ड्राइवर बनने के लिए आवेदन करने के बारे में सोचते हैं. लेकिन आप सिर्फ 10th पास करके Loco Pilot नहीं बन सकते है इसके लिए आपको थोड़ी और पढ़ाई करनी होगी.

Train Driver Kaise Bane

यदि आप बेरोजगार पढ़े लिखे युवा है तो ट्रेन में सफर करते हुए आपको भी Train Driver बनने का विचार आया होगा. ऐसे में आप भी जानना चाहते होंगे कि Loco Pilot Kaise bane यहां आपको कंफ्यूज नहीं होना है. भारतीय रेल में ट्रेन ड्राइवर और लोको पायलट एक ही पद होता है. जिसमें आपको पहले ट्रेनिंग के लिए मालगाड़ी और फिर अनुभव होने के बाद पैसेंजर ट्रेन चलानी होती है.

Train Driver Kaise Bane

भारत में किसी भी नौकरी के लिए कुछ न कुछ क्वालिफिकेशन होना अनिवार्य है. इसी तरह भारतीय रेल के Train Driver बनने में कम से कम 10th पास का सर्टिफिकेट और 2 साल का ITI डिप्लोमा होना आवश्यक है. अगर आप ग्रेजुएट है तो आपका Loco Pilot बनना और भी आसान हो जाता है. वैसे देखा गया है कि भारतीय रेल में ड्राइवर बनने के लिए ज्यादातर ग्रेजुएट लोग ही आवेदन करते हैं.

भारत में हर साल लाखों की संख्या में लोग भारतीय रेल में नौकरी के लिए आवेदन करते है लेकिन बहुत कम पद होने के कारण कुछ लोगो की ही नौकरी लग पाती है. जहां तक बात करे ट्रेन ड्राइवर की तो इसमें भी नौकरी पाना आसान नहीं है. इसके लिए भी लोगो को कड़ी मेहनत करनी पड़ती है.

भारतीय रेल में नौकरी के लिए क्वालिफिकेशन चेक करने के बाद आपको एग्जाम के लिए बुलाया जाता है. अगर आप सभी लिखित एग्जाम में पास हो जाते है तो आपको मेडिकल टेस्ट किया जाता है जिसमें पास होना बहुत जरुरी होता है. मेडिकल में खासकर आँखों का टेस्ट किया जाता है जिसमें पता किया जाता है कि आपकी आँखों में कोई द्रष्टिदोष तो नहीं है. अगर आप इस टेस्ट में पास हो जाते हैं तो आपको ट्रेनिंग के लिए बुलाया जाता है.

Train Driver बनने के लिए योग्यता

Loco Pilot बनने के लिए आप में नीचे दी गयी क्वालिफिकेशन होना चाहिए

  1. सबसे पहली चीज आपका भारतीय नागरिक होना आवश्यक है. इसके बाद ही आप भारतीय रेल में नौकरी कर सकते हैं.
  2. आपकी आयु कम से कम 18 वर्ष और अधिक से अधिक 30 वर्ष होना चाहिए.
  3. अगर आप ग्रेजुएट है तो अच्छी बात है. अगर नहीं है तो आपको किसी सरकारी बोर्ड से कम से कम 10वी पास का सर्टिफिकेट और 2 वर्ष का ITI या पॉलिटेक्निक डिप्लोमा होना चाहिए.

अगर आप के पास ऊपर बताई गयी क्वालिफिकेशन है तो आप भारतीय रेल में Train Driver का फॉर्म भर सकते हैं.

Train Driver के एग्जाम में क्या आएगा

भारतीय रेल के द्वारा आयोजित लिखित परीक्षा में सामान्य ज्ञान, सामान्य विज्ञान, गणित, करंट अफेयर्स और तार्किक आदि से संबंधित सवाल पूछे जायेंगे. वैसे ज्यादातर परीक्षाओं में देखा गया है कि ज्यादातर प्रश्न सामान्य ज्ञान से जुड़े होते हैं. ऐसे में आपको इस परीक्षा में पास होने के लिए सामान्य ज्ञान का अभ्यास कर लेना चाहिए. बाजार में ऐसी बहुत किताबे मिल जाती है जिनमें बताया गया होता है कि रेलवे में कौन कौन से सवाल पूछे जा सकते हैं.

इस परीक्षा में कुल 120 प्रश्न होते है जिन्हें सोल्व करने के लिए 90 मिनिट का समय निर्धारित किया जाता है. आपको बता दे कि इस परीक्षा में नेगेटिव मार्किंग का प्रावधान भी लागू होता है. इसका मतलब यह हुआ कि एक गलत उत्तर देने पर 1/4 अंक काट दिए जाते हैं.

Train Driver का एग्जाम पास करने के बाद होगा साइको टेस्ट

पहला एग्जाम पास करने के बाद आपका साइको टेस्ट होता है. इस टेस्ट में भी लिखित परीक्षा होती है. जिससे यह जानने की कोशिश की जाती है कि आप दिमागी तौर पर कितने तंदुरुस्त है. इसमें आपसे ऐसे दिमाग फिराने वाले प्रश्न पूछे जायेंगे. ऐसे में आप इस टेस्ट में थोड़े कंफ्यूज हो सकते हैं. इससे यह पता चल जाता है कि आप कितने जल्दी सही फैसला ले सकते हैं. अगर आप ऐसे प्रश्नों का पहले से अभ्यास करते हैं तो आप बहुत आसानी से इस टेस्ट में पास हो सकते हैं.

Train Driver के मेडिकल टेस्ट में क्या होता है

पहले और दूसरे एग्जाम में पास होने के बाद आपका मेडिकल टेस्ट होता है. इस टेस्ट में ज्यादातर ध्यान आपकी आँखों में दिया जाता है क्योंकि किसी ट्रेन ड्राइवर के लिए उसकी आँखे ठीक होना जरुरी होता है. ऐसे में आपकी आँखों में किसी भी तरह का द्रष्टिदोष नहीं होना चाहिए. हालाकि रेलवे के इस मेडिकल टेस्ट में शरीर के अन्य भागो का टेस्ट भी होता है लेकिन जो मुख्य टेस्ट होता है वह आँखों का ही होगा.

शैक्षणिक योग्यता दस्तावेज़ की जांच

जब आप पहले और दूसरे एग्जाम को पास करने के बाद साइको टेस्ट से गुजरते हैं तो साइको टेस्ट में पास होने के बाद आपके डॉक्यूमेंट की जांच की जाती है. इसके साथ ये भी पता किया जाता है कि आपके पास पूरे डॉक्यूमेंट है या नहीं. इसमें आधार कार्ड, शैक्षणिक योग्यता प्रमाण पत्र, जाति प्रमाण पत्र, मूल निवासी प्रमाण पत्र, सिग्नेचर और फोटो आदि की जाँच की जाती है. कुछ परीक्षाओं में यह डॉक्यूमेंट पहले ही ले लिए जाते हैं. यदि आपके डॉक्यूमेंट सही पाए जाते हैं तो आपको Train Driver बनने की ट्रेनिंग दी जाती है.

इस ट्रेनिंग में आपको Train की सभी जानकारियों से अवगत कराया जाता है. ट्रेनिंग में आप सहायक Loco Pilot बनते हैं. जब आपकी ट्रेनिंग पूरी हो जाती है तो आपको सबसे पहले मालगाड़ी चलाने के लिए दी जाती है. जब आप मालगाड़ी चलाने में परफेक्ट हो जाते हैं तो इसके बाद आपको पैसेंजर ट्रेन चलाने की नौकरी दी जाती है.

Train Driver की Salary कितनी होती है

शुरुआत में आपको सहायक Loco Pilot बनाया जाता है. जिसमें आप पहले से मौजूद मुख्य Train Driver के साथ रेल चलाते हैं. सहायक Loco Pilot की सैलरी 5,200 से 20,000 हजार तक होती है. कुछ अतिरिक्त आय को मिलाकर इनकी सैलरी 30,000 से अधिक हो जाती है. जैसे जैसे आपका अनुभव बढ़ता जायेगा आपकी salary भी बढ़ती जाती है. जहां तक सीनियर ट्रेन ड्राइवर की बात करे तो इनकी सैलरी 55 हजार से अधिक होती है. इसके अलावा अलग अलग रूट पर सैलरी भी अलग अलग होती है.

ये भी पढ़े –

तो अब आप Train Driver Kaise Bane 2019 में इसके बारे में जान गए होंगे. वैसे दिखा जाए तो Loco Pilot बनने की प्रक्रिया चार चरणों में होती है. पहला एग्जाम, दूसरा साइको टेस्ट, तीसरा मेडिकल टेस्ट और चौथा ट्रेनिंग. अगर आप भारतीय रेलवे की ट्रेन चलाना चाहते है यानी इसमें नौकरी पाना चाहते है तो आपको इसी जुड़ी बुक पढ़कर इसकी तैयारी अभी से शुरू कर देना चाहिए. जैसे ही किसी एरिया में वैकेंसी निकले उसके लिए तुरंत अप्लाई कर देना चाहिए.

 

Train Driver Kaise Bane 2019 में लोको पायलट की जानकारी
5 (100%) 2 vote[s]

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here