सीबीआई ऑफिसर कैसे बने सैलरी योग्यता और प्रक्रिया

आज के आर्टिकल में हम बात करने वाले हैं सीबीआई ऑफिसर कैसे बने सैलरी योग्यता और प्रक्रिया बहुत सारे लोगों को CBI Officer बनने के बारे में बहुत डाउट होते हैं कई लोगों का सवाल होता है कि क्या वह दसवीं के बाद सीबीआई ऑफिसर बनते हैं इस आर्टिकल में मैं आपको पूरी जानकारी दूंगा। एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया फार्म भरना और इसकी पोस्ट से रिलेटेड पूरी जानकारी इस आर्टिकल में कवर की गई है।

सीबीआई ऑफिसर कैसे बने

आज के इस तीर्व गति से बदलते हुए संसार में नौकरी ढूंढना बहुत बड़ी बात हो गई है, भारत में बेरोजगारी की दर बढ़ती ही जा रही है। नौकरी ढूंढना कचरे में सुई ढूंढने के बराबर है। भारत में बढ़ती बेरोजगारी के कई कारण है सबसे पहला और मुख्य कारण तो जनसंख्या ही है और एक कारण यह भी है कि बच्चों को कोई सही गाइड करने वाला नहीं होता कि उन्हें आगे क्या करना चाहिए।

इसलिए स्टूडेंट्स के मन में आमतौर पर ऐसे सवाल होते हैं कि सीबीआई ऑफिसर कैसे बने और इसका एग्जाम पैटर्न और एलजीबीटी क्राइटेरिया वगैरा क्या होता है आइए आर्टिकल को शुरू करते हैं और पूरी जानकारी देख लेते हैं।

सीबीआई ऑफिसर कैसे बने

आइए देखते हैं कि सीबीआई ऑफिसर बनने के लिए आपको किस प्रकार का सिलेबस पढ़ना होगा सीबीआई ऑफिसर की सैलरी क्या होती है अगर आप CBI Officer बनना चाहे तो इसका एग्जाम पैटर्न क्या रहेगा। क्या आप 12वीं के बाद सीबीआई ऑफिसर बन सकते हैं या आपको ग्रेजुएशन ही करनी होगी सभी सवालों का जवाब इस आर्टिकल में देंगे इसलिए आर्टिकल को आखिर तक जरूर देखिए।

CBI ऑफिसर बनने के दो तरीके हैं एक तो आप कॉम्पिटीटिव एग्जाम देकर CBI officer बन सकते हैं। दूसरे आप पुलिस विभाग से डेप्युटेशन (deputation) यानि प्रतिनियुक्ति या प्रमोशन के बाद भी CBI जॉइन कर सकते हैं।

CBI Officer क्या होता है

सीबीआई का फुल फॉर्म Central bureau of investigation होता है, हिंदी में इसे केंद्रीय जांच ब्यूरो कहा जाता है।CBI एक स्पेशल जांच एजेंसी है जो भ्रष्टाचार आर्थिक मामलों और अपराधों पर जांच करती है।

सीबीआई ऑफिसर कैसे बने

CBI में भर्ती सब इंस्पेक्टर के लिए होती है, और यह SSC के द्वारा करवाई जाती है। अगर आप सीबीआई में भर्ती होने के लिए एग्जाम देना चाहते हैं तो इसका मतलब है कि आपको सब इंस्पेक्टर का एग्जाम देना होगा, इस एग्जाम का नाम एसएससी सीजीएल होता है।

एसएससी सीजीएल एग्जाम हर साल एसएससी द्वारा कंडक्ट करवाया जाता है, हर साल इसकी पोस्ट निकलती है और आप इसका आवेदन आसानी से कर सकते हैं।

सीबीआई को बिना वर्दी का पुलिस ऑफिसर भी कहा जाता है, आपको जानकर हैरानी होगी की सीबीआई ऑफिसर की कोई वर्दी नहीं होती, जब यह किसी भी विभाग पर रेड मारते हैं तो सादे कपड़ों में ही होते हैं और ज्यादातर आप इन्हें सादे कपड़ों में ही देखेंगे।

यह एक ऐसी संस्था है जिसकी स्थापना अलग-अलग विभागों में भ्रष्टाचार को रोकने के लिए की गई थी, जैसे की इनकम टैक्स, सेल टैक्स जैसे विभागों में सीबीआई कभी भी छापा मार सकती है, और आपने आए दिन अखबारों में सुना ही होगा कि सीबीआई ने किसी विभाग को सीज कर दिया है।

आज के समय में सीबीआई में आठ प्रकार के अलग-अलग डिविजन काम करते हैं, इन आठ प्रकार के डिवीजन में आप नौकरी हासिल कर सकते हैं।

नॉर्मल पुलिस और सीबीआई में इतना ही फर्क है कि एक तो CBI Officer कभी वर्दी नहीं पहनते और दूसरा यह कि सीबीआई ऑफिसर का दायरा बहुत बड़ा होता है। पुलिस ऑफिसर का दायरा उसकी पुलिस चौकी या उसका शहर ही होता है, लेकिन सीबीआई ऑफिसर पूरे भारत में कहीं भी अपनी मार कर सकता है। और CBI Officer पूरी दुनिया में कहीं भी जा सकते हैं, खासकर किसी मुजरिम को पकड़ने के लिए या कोई खास किस्म की जांच करने के लिए और सारा खर्चा सरकार देती है।

सीबीआई को प्रधानमंत्री की पुलिस भी कहा जाता है क्योंकि यह डिपार्टमेंट इनडायरेक्ट तौर पर प्रधानमंत्री के नीचे काम करता है और वर्तमान प्रधानमंत्री के इशारों पर ही चलता है, माना जाता है कि इसीलिए सीबीआई खुलकर काम कर सकती है और इन्हें किसी भी प्रकार की कोई बंदिश नहीं रहती ।

CBI के कितने Divisions होते है

जैसा कि मैंने आपको बताया कि आप सीबीआई के आठ प्रकार के डिवीजन में नौकरी ले सकते हैं तो आइए उन आठों को बारीकी से समझ लेते हैं ताकि आप CBI के बारे में अच्छे से समझ सकें और अपनी नौकरी की तैयारी सही से कर सकें।

1. Special crime branch

स्पेशल क्राइम ब्रांच के ऑफिसर इस प्रकार के केस देखते हैं जिनको किसी भी पर्टिकुलर स्टेट की पुलिस हैंडल नहीं कर सकती तो वह केस सीबीआई को सौंपा जाता है जैसे कोई बहुत भयानक मर्डर का केस है या अधिक घिनौने केस जो पुलिस हैंडल करने में सक्षम नहीं है वह CBI Officer को सौंपे जाते हैं, इस प्रकार के केस स्पेशल क्राइम ब्रांच हैंडल करती है।

2. Anti corruption bureau

दोस्तों एंटी करप्शन ब्यूरो का काम होता है कि वह किसी भी विभाग में चेकिंग करके करप्शन को रोक सकती है या कहें तो इसका काम विभागों में हो रहे भ्रष्टाचारियों को रोकना है।

3. Economic offence wing

आर्थिक मामलों में हो रही धोखाधड़ी को लेकर यह स्पेशल विंग निर्धारित की गई है इस रिंग का काम है पैसों के मामले में हो रही धोखाधड़ी को खत्म करना या अगर कोई बड़ा घपला हुआ है तो इसकी जांच भी इकोनामिक ऑफेंस विंग करती है।

4. Cyber security wing

सोशल मीडिया अकाउंट हैकिंग, वेबसाइट द्वारा हैकिंग या इस प्रकार की किसी भी साइबर गतिविधि को काउंटर करने के लिए साइबरसिक्योरिटी विंग निर्धारित की गई है, बैंक अकाउंट हैकिंग और मनी ट्रांसफर जैसे मामलों में साइबरसिक्योरिटी विंग इकोनामिक ऑफेंस विंग के साथ मिलकर काम करती है।

5. Forensic lab

आपने फिल्मों में देखा होगा कि सीआईडी ऑफिसर किस तरह से फुटप्रिंट लेते हैं या फिंगरप्रिंट टेस्ट लेते हैं और कई बार जली कटी फटी लाशों की फॉरेंसिक जांच करते हैं, ऐसी किसी भी फॉरेंसिक जांच के लिए एक अलग फॉरेंसिक लैब है, जहां पर सीबीआई के अधिकारी काम करते हैं।

6. Administration

Administration का काम ऑफिस संभालना होता है, यहां पर वैकेंसी डायरेक्ट होती है, यहां पर एडमिनिस्ट्रेशन वर्क होता है जिसे आप सिटिंग जो भी कह सकते हैं।

7. Directorate of Prosecution

यह एक प्रकार की कोर्ट होती है जो सीबीआई के लिए ही स्पेशल होती है आपको बता दें कि सीबीआई के लिए एक अलग कचहरी भी होती है, जहां पर सीबीआई के केस चलते हैं और केवल उन्हीं के केसों पर सुनवाई होती है।

8. Policy & Coordination

किसी भी एक डिवीजन को अपना केस सुलझाने के लिए या किसी मदद के लिए दूसरे डिवीजन की जरूरत पड़ती है तो आपस में कोऑर्डिनेशन करने के लिए इस डिवीजन की मदद लेनी पड़ती है, जैसे कि हमने आपको उदाहरण के लिए बताया था कि अगर बैंक में पैसों के मामले में वित्तीय फ्रॉड होता है, तो वहां पर साइबर सिक्योरिटी डिपार्टमेंट इकोनामिक विंग के साथ मिलकर काम करता है।

यह आठ प्रकार के डिवीजन सीबीआई के थ्रू काम करती है आइए अब देख लेते हैं कि इन 8 प्रकार के डिवीजनो में नौकरी लेने के लिए आपको क्या करना होगा।

सीबीआई ऑफिसर बनने के लिए योग्यता

बहुत लोगों का सवाल होता है कि क्या वह 10वीं या 12वीं के बाद सीबीआई के लिए आवेदन कर सकते हैं तो दोस्तों कहते हुए काफी निराशा हो रही है लेकिन आपको एग्जाम देने के लिए कम से कम ग्रेजुएट होना होगा।

अगर आप एसएससी सीजीएल एग्जाम देना चाहते हैं तो आपको किसी भी स्ट्रीम से ग्रेजुएशन करनी होगी, ग्रेजुएशन या ग्रेजुएशन के लेवल की कोई डिग्री होनी आवश्यक है।

CBI बनने के लिए आयु सीमा क्या है

अगर बात करें सीबीआई बनने के लिए एज लिमिट की तो आपको बता दूं कि जनरल कैटेगरी के लिए 20 से 30 साल के बीच होती है, यानी कि 20 साल के बाद आप एसएससी सीजीएल का एग्जाम दे सकते हैं, और अधिकतम उम्र 30 साल है यानी कि आपकी उम्र 30 साल से कम होनी चाहिए और 20 साल से बड़ी होनी चाहिए।

और खास किस्म की रिजल्ट कैटेगरी के लिए रिजर्वेशन के हिसाब से 35 साल तक एज लिमिट होती है।

CBI बनने के लिए शारीरिक योग्यता

अगर आप सीबीआई बनना चाहते हैं तो फिजिकल मेजरमेंट के हिसाब से पुरुष की हाइट 165 सेंटीमीटर और महिला की हाइट मिनिमम 150 सेंटीमीटर होनी चाहिए।

रिजर्व कैटेगरी के लिए कुछ सेंटीमीटर की छूट होती है। जैसे कि रिजर्व कैटेगरी में पुरुषों की हाइट 160 तक चल जाती है और महिलाओं की कम से कम 145 सेंटीमीटर होनी चाहिए।

आइए अब एग्जाम पैटर्न देख लेते हैं कि आपको सीबीआई बनने के लिए किस प्रकार का पेपर देना पड़ता है।

CBI बनने के लिए Exam Pattern और प्रक्रिया 

जैसा कि आपको बता दिया गया है सीबीआई बनने के लिए एसएससी द्वारा एसएससी सीजीएल एग्जाम कंडक्ट करवाया जाता है।

1. इसका एग्जाम 200 मार्क्स का होता है और इसमें मल्टीपल चॉइस क्वेश्चन आते हैं।

इसमें चार प्रकार के एग्जाम होते हैं और टीयर वन में पहला रिटन एग्जाम है जो आपको देना होगा यह एग्जाम कंप्यूटर बेस्ड होता है, यानी कि आपको कंप्यूटर में मल्टीपल चॉइस क्वेश्चन में से सही उत्तर चुनना होगा।

ध्यान रखिए कि रिटन एग्जाम में माइनस मार्किंग भी होती है यानी कि अगर आपने गलत उत्तर को टिक कर दिया है तो आपके नंबर भी कटेंगे इसको नेगेटिव मार्किंग भी कहा जाता है।

यह क्वेश्चंस जनरल इंटेलिजेंस जनरल अवेयरनेस रीजनिंग क्वांटिटेटिव एप्टिट्यूड और इंग्लिश से लिए जाते है। आपको यह सभी सब्जेक्ट ध्यान से पढ़ने होंगे और इन पर अपनी अच्छी पकड़ बनानी होगी।

2. टीयर 2 में भी एक रिटन एग्जाम होगा और यह एग्जाम 400 नंबर का होगा और इसमें 200 क्वेश्चन पूछे जाएंगे, इसमें भी मल्टीपल चॉइस क्वेश्चन ही होंगे, यह भी टीयर 1 की तरह सेम कंप्यूटर बेस्ड एग्जाम है, और इसमें भी नेगेटिव मार्किंग होगी।

3. दोस्तों tier-3 में आपका मेडिकल किया जाएगा, टियर 3 में आपका डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन भी होता है यह ऑफलाइन ही होगा और लेकिन स्पेशल कंडीशन में इसको ऑनलाइन भी किया जा सकता है।

मेडिकल करते वक्त आपका शारीरिक ढांचा देखा जाएगा, यानी कि यह देखा जाएगा कि शारीरिक रूप से आप इस नौकरी के लिए सक्षम है या नहीं। फिजिकल रिक्वायरमेंट हमने आपको ऊपर बता दी हैं।

अगर आप मेडिकल को सही से क्लियर कर लेते हैं और सभी जांचों में खरे उतरते हैं तो आगे आपका इंटरव्यू प्रोसेस होगा।

4. टियर 4 में इंटरव्यू और ट्रेनिंग होती है इंटरव्यू में भी आम सवाल ही पूछे जाते हैं और आपका हाव-भाव भी देखा जाता है इंटरव्यू क्लियर होने के बाद आपकी ट्रेनिंग होगी, यह ट्रेनिंग 9 महीने की होती है और ट्रेनिंग पूरी होने के बाद आप की पोस्टिंग होती है।

तो यह था इसका सिलेक्शन का पूरा प्रोसेस, आइए अब सीबीआई ऑफिसर की सैलरी की बात कर लेते हैं और देख लेते हैं कि सैलरी भक्तों में आपको क्या-क्या सुविधाएं मिलती है।

CBI Officer की सैलरी कितनी होती है

सीबीआई ऑफिसर के 4,600 रुपए से ग्रेड पे रहती है, और सीबीआई ऑफिसर की मिनिमम सैलरी ₹70,000 तक जाती है। सीबीआई ऑफिसर को सैलरी के साथ कई अन्य प्रकार के भत्ते भी मिलते हैं जैसे महंगाई भत्ता और बच्चों की फीस के लिए अलग से पैसे मिलते हैं। और इसके साथ-साथ मेडिकल एक्सपेंस होने पर भी अलग से पैसे दिए जाते हैं।

अब आप जान गए होंगे कि सीबीआई ऑफिसर कैसे बने इसकी योग्यता सैलरी और प्रक्रिया क्या होती है इस आर्टिकल में हमने सीबीआई के बारे में कंप्लीट इंफॉर्मेशन ली है यहां पर हमने आपको सीबीआई में कार्यरत 8 विभागों या कहे तो डिवीजन के बारे में जानकारी दी है और उन 8 में नौकरी पाने और उनकी सैलरी के बारे में भी जानकारी दी है। अगर आपको लगता है कि किसी प्रकार की कोई जानकारी अधूरी रह गई है तो आप हमें कमेंट करके बता सकते हैं हम तुरंत रिप्लाई देकर आपका जवाब देने की कोशिश करेंगे।

ये भी पढ़े –

इंस्टाग्राम में सबसे ज्यादा फोल्लोवर्स किसके हैं टॉप 10 लिस्ट

CBI और CID में अंतर क्या है कौन बड़ी है

बॉलीवुड का सबसे अमीर हीरो कौन है कुल कितना पैसा है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here