इंटरनेशनल ड्राइविंग लाइसेंस कैसे बनवाये

अगर आपके पास इंडियन ड्राइविंग लाइसेंस है तो आप भारत के किसी भी स्टेट में गाड़ी चला सकते है लेकिन अगर आप भारत के अलावा किसी दूसरी कंट्री में ड्राइविंग करना चाहते है तो इसके लिए आपको अंतर्राष्ट्रीय वाहन चालक परमिट की आवश्यकता पड़ेगी. ऐसे में आज के इस पोस्ट में हम आपको इंटरनेशनल ड्राइविंग लाइसेंस कैसे बनवाये इसके बारे में बताने जा रहे हैं. देश में बहुत से लोग है जो विदेश में कार चलाने के बारे में सोचते है लेकिन इंटरनेशनल ड्राइविंग परमिट न होने के कारण विदेश में कार नहीं चला पाते हैं.

इंटरनेशनल ड्राइविंग लाइसेंस कैसे बनवाये

ड्राइविंग करने का अपना ही अलग मजा होता है. जब आप विदेश में ड्राइविंग करते है तो इससे अच्छा अनुभव शायद ही आपको कही मिले. यदि आप विदेशों के हाईवे पर कार चलाने का अनुभव लेना चाहते है. इसके लिए आपके पास इंटरनेशनल ड्राइविंग लाइसेंस होना बेहद जरुरी है बिना इसके आप विदेश में ड्राइविंग नहीं सकते हैं.

यदि आप लाइसेंस के बिना ड्राइविंग करते पकडे गए तो इसके लिए आपको जुर्माना या जेल की सजा का सामना करना पड़ सकता है. हालाकि इंडियन ड्राइविंग लाइसेंस से आप गिने चुने कुछ देशों में ड्राइविंग कर सकते हैं. लेकिन यदि आप 150 से ज्यादा देशों में से किसी भी देश में कार चलाना चाहते है तो इसके लिए आपको इंटरनेशनल ड्राइविंग लाइसेंस या परमिट की जरुरत पड़ेगी.

अब आप सोच रहे होंगे कि यहां इंटरनेशनल की बात हो रही है तो इसे बनवाने के लिए आपको विदेश जाना होगा. ऐसा कुछ भी नहीं है अब आप अपने देश यानी भारत में इंटरनेशनल ड्राइविंग लाइसेंस बनवा सकते हैं और इसकी प्रक्रिया काफी आसान है.

इंटरनेशनल ड्राइविंग लाइसेंस कैसे बनवाये

जिस तरह आप नार्मल ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने के लिए अपने नजदीकी RTO ऑफिस जाते हैं. ठीक उसी तरह इंटरनेशनल के लिए भी आपको अपने नजदीकी RTO ऑफिस जाना होगा. हमारे देश में परमानेंट लाइसेंस बनवाने की प्रक्रिया काफी सरल है.

इसके लिए सबसे पहले आपको अपने स्थानीय RTO ऑफिस जाना होगा. इसके बाद RTO ऑफिस में आपको एक लिखित परीक्षा और ड्राइविंग टेस्ट देना होता है. यदि आप इस टेस्ट में पास हो जाते है तो आपको 6 महीने के लिए लर्निंग लाइसेंस प्रदान किया जाता है.

इसी टाइम यानी 6 महीनों के अन्दर आपको लर्निंग लाइसेंस से परमानेंट लाइसेंस के लिए आवेदन करना होता है. आपके डॉक्यूमेंट आदि की जांच होने के बाद आपको निश्चित समय में परमानेंट लाइसेंस मुहैया करवा दिया जाता है.

एक तरफ जहां भारतीय लाइसेंस बनवाने के लिए आपको भारतीय डॉक्यूमेंट की जरुरत जैसे आधार कार्ड, पहचान पत्र आदि की जरुरत पड़ती है. ठीक इसी तरह इंटरनेशनल के लिए आपको कुछ विदेशी डॉक्यूमेंट की जरुरत पड़ेगी. तो यह कौनसे डॉक्यूमेंट होंगे उसकी जानकारी नीचे दी गयी है.

इंटरनेशनल ड्राइविंग लाइसेंस के लिए क्या क्या चाहिए

इसके लिए आपको कुल 8 डॉक्यूमेंट की जरुरत पड़ेगी जैसे –

  1. फॉर्म 4A एप्लीकेशन
  2. फॉर्म 1A मेडिकल (इन दोनों फॉर्म को RTO की वेबसाइट से डाउनलोड कर सकते हैं)
  3. आधार कार्ड
  4. पासपोर्ट की फोटोकॉपी
  5. Visa की फोटोकॉपी
  6. पासपोर्ट साइज फोटोकॉपी
  7. परमानेंट ड्राइविंग लाइसेंस
  8. फ्लाइट टिकेट

फॉर्म 4A इंटरनेशनल ड्राइविंग लाइसेंस का आवेदन डॉक्यूमेंट होता है जिसे आपको खुद भरना होगा. दूसरे फॉर्म 1A मेडिकल होता है जिसे आपको किसी रजिस्टर्ड डॉक्टर से भरवाना है. दूसरे फॉर्म को आप खुद नहीं भर सकते क्योंकि इसमें डॉक्टर की सील और सिग्नेचर की जरुरत पड़ती है. ऐसे में इस फॉर्म को कोई रजिस्टर्ड डॉक्टर ही फिल करेगा.

इसके बाद तीसरा डॉक्यूमेंट आपका आधार कार्ड रहेगा जो आपके नागरिकता और जन्मतिथि का प्रूफ रहेगा. हालाकि कुछ RTO में इसकी जरुरत नहीं पड़ती है क्योंकि इसमें आपको पासपोर्ट की फोटोकॉपी भी देना होता है जिसमे पहले से ही नागरिकता और डेट ऑफ़ बर्थ का प्रूफ रहता है.

पांचवा डॉक्यूमेंट Visa रहेगा. आपको इसकी फोटोकॉपी की भी जरुरत पड़ेगी. भारतीय परमानेंट ड्राइविंग लाइसेंस के अलावा आपको फ्लाइट टिकेट की जरुरत पड़ेगी. हालाकि कुछ RTO फ्लाइट टिकेट नहीं मांगते है लेकिन कुछ होते हैं जो वेरिफिकेशन के लिए फ्लाइट टिकेट मांग सकते हैं.

इन सभी डॉक्यूमेंट को तैयार करने के बाद आपको अपने स्थानीय RTO ऑफिस जाना है. RTO में इन डॉक्यूमेंट के साथ आपको फीस देनी होगी. पहले यह फीस 500 रूपये हुआ करती थी लेकिन अब यह 1000 रूपये कर दी गयी है.

अंतर्राष्ट्रीय लाइसेंस कोई विशेष लाइसेंस नहीं होता है. यह आपके भारतीय लाइसेंस को ही ट्रांसलेट किया जाता है. RTO के पास एक फॉर्मेट होता है जिसके तहत आपके परमानेंट ड्राइविंग लाइसेंस को इंटरनेशनल ड्राइविंग परमिट बना दिया जाता है. इसलिए इसमें ज्यादा समय नहीं लगता है यह 5 से 7 दिन के अन्दर मिल जाता है.

तो इस तरह आप बहुत आसानी से कुछ डॉक्यूमेंट को तैयार करके अपना इंटरनेशनल ड्राइविंग लाइसेंस बनवा सकते हैं. भारतीय RTO द्वारा दिया गया यह लाइसेंस 150 से अधिक देशों में मान्य होता है ऐसे में आप विदेशों में कार चलाने का मजा ले सकते हैं.

ये भी पढ़े –

Kiosk Bank कैसे खोले मिलेगा 1.50 लाख का लोन

भारत के सबसे अमीर राज्य कौन कौन से है

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पास कितनी संपत्ति है

Android Mobile की RAM कैसे बढ़ाये आसानी से 4GB तक

इंटरनेशनल ड्राइविंग लाइसेंस कैसे बनवाएं अब आप जान गए होंगे अगर आपको यह जानकारी पसंद आयी हो तो इसे सोशल मीडिया में अपने दोस्तों के साथ शेयर जरुर करे. ताकि यह जानकारी ज्यादा से ज्यादा लोगो तक पहुंच सके. अगर इस पोस्ट से संबंधित कोई सुझाव या सवाल है तो नीचे कमेंट करके बताये.

5 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here