MS DOS क्या है कैसे काम करता है पूरी जानकारी

आप जानते है MS DOS क्या है कैसे काम करता है अगर आप कंप्यूटर चलाते है तो आपने कभी न कभी DOS के बारे में जरुर सुना होगा और आप भी जानना चाहते होंगे कि आखिर ये MS DOS क्या होता है तो आज हम आपको इसी विषय के बारे में बताने जा रहे हैं. जब भी कंप्यूटर खरीदने जाते है तो आपके सामने कंप्यूटर के ऑपरेटिंग सिस्टम के तीन ऑप्शन मिलते है जिसमें पहला विंडोज, दूसरा लिनक्स और तीसरा MS DOS होता है जो बाकि के मुकाबले सबसे सस्ता पड़ता है तो चलिए इसके बारे में जानते हैं.

MS DOS क्या है कैसे काम करता है पूरी जानकारी
ms dos kya hai

MS DOS क्या है

आप जानना चाहते होंगे कि MS DOS क्या है तो आपको बता दे कि MS DOS की फुलफॉर्म Disk Operating System होती है यानी यह एक माइक्रोसॉफ्ट के द्वारा बनाया गया ऑपरेटिंग सिस्टम है जो पहले काफी ज्यादा यूज़ किया जाता था लेकिन अब Windows Operating System आ जाने के कारण कम यूज़ होता है.

आज के समय भी नए लैपटॉप में MS DOS ऑपरेटिंग सिस्टम दिया जाता है हालाकि इसका यूज़ बहुत ही कम लोग करते है क्योंकि यह एक ऐसा ऑपरेटिंग सिस्टम है जो पूरी तरह यूजर पर डिपेंड रहता है यानी जब भी आप इसमें कोई काम करेंगे तो आपको इसे कमांड देना होता है.

इस ऑपरेटिंग सिस्टम को विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम की तरह हर कोई नहीं चला सकता है अगर आपको इसकी पूरी जानकारी है तभी आप इसे चला सकते हैं. Flipkart और Amazon जैसी ऑनलाइन शौपिंग वेबसाइट में डॉस ऑपरेटिंग के काफी सस्ते लैपटॉप मिल जाते है जिसे आप चाहे तो बाद में अपने MS DOS ऑपरेटिंग सिस्टम वाले लैपटॉप में विंडोज सिस्टम डलवा सकते हैं.

MS DOS कैसे काम करता है

MS DOS क्या है ये तो आप जान गए होंगेअब आपको बताते है कि ये काम कैसे करता है तो आपको बता दे कि इसमें कोई सा भी काम कमांड के जरिये होता है जैसे मान लीजिये आप विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम में कोई फोल्डर तैयार करते हैं तो क्या करना होगा आप सीधा न्यू फोल्डर पर क्लिक करेंगे आपका न्यू फोल्डर क्रिएट हो जायेगा.

MS DOS में ऐसा नहीं होता है इसमें न्यू फोल्डर बनाने के लिए कमांड जानना जरुरी है तो इसका कमांड क्या होगा MD स्पेस और फोल्डर का नाम लिखने के बाद एंटर करना है इसमें आपका कमांड के जरिये न्यू फोल्डर क्रिएट हो जायेगा. तो ऐसे और भी कमांड होते हैं जो MS DOS ऑपरेटिंग सिस्टम में काम करते हैं.

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम में भी डॉस की एक फाइल होती है जब भी आप अपने विंडोज कंप्यूटर को ओपन करते है तो डॉस की यह फाइल रन करती है अगर डॉस कि यह फाइल डिलीट हो गयी तो आपका विंडोज काम नहीं करेगा तो अभी भी विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम डॉस ऑपरेटिंग सिस्टम पर डिपेंड रहता है.

MS DOS के फायदे और नुकसान

MS DOS क्या है ये काम कैसे करता है इसके बारे में आपको काफी कुछ जानकारी मिल गयी है लेकिन इसके फायदे थोड़े बहुत ही है जैसे इसे इंस्टाल करने के लिए ज्यादा इंस्टालेश मेमोरी की जरुरत नहीं होती है इसे आप महज 8 से 10 MB की मेमोरी में इंस्टाल कर सकते हैं इसे चलाने के लिए कोई हाई स्पीड या बड़ा कंप्यूटर नहीं चाहिए होता है ये कोई भी नार्मल कंप्यूटर में चल सकता है.

इसके डिसएडवांटेज की बात करे तो सबसे बड़ा डिसएडवांटेज यह है कि इसमें आप MS DOS में विंडोज की तरह मल्टीटास्किंग काम नहीं कर सकते हैं इसमें आप एक बार में सिर्फ एक ही काम कर सकते हैं. डॉस ऑपरेटिंग सिस्टम छोटी मोटी हैकिंग के लिए भी प्रचलित है जैसे किसी साईट को ट्रैक करना आदि अगर आप विंडोज में आप किसी साईट को ट्रैक करना चाहते है तो इसके लिए सॉफ्टवेयर की जरुरत पड़ेगी लेकिन MS DOS में आप ये काम कमांड के जरिये कर सकते हैं. तो अब आप जान गए होंगे कि MS DOS क्या है या MS DOS क्या होता है और ये कैसे काम करता है सरल शब्दों में जाने तो MS DOS ऑपरेटिंग सिस्टम एक ऐसा ऑपरेटिंग सिस्टम है जो पूरी तरह से कमांड देकर चलाया जाता है इसके कई फायदे है तो कई नुकसान भी है लेकिन इसकी पूरी जानकारी न होने के कारण आज बहुत कम लोग इसका यूज़ करते हैं.

ये भी पढ़े –

MS DOS क्या है कैसे काम करता है पूरी जानकारी
3 (60%) 2 vote[s]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here